MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सरकारी योजनाएं

सरकार बाढ़ प्रभावित इलाके के किसानों को दे रही प्रति एकड़ 15 हजार रुपये का मुआवजा

बाढ़ में किसानों के फसल को होने वाले नुकसान के लिए राज्य सरकारें मुआवजा दे रही हैं, ताकि उनकी आर्थिक स्थिति बेहतर हो सके.

रवींद्र यादव
रवींद्र यादव
बाढ़ से प्रभावित खेत
बाढ़ से प्रभावित खेत

पिछले कई दिनों से देश में भारी बारिश के कारण फसलों को काफी नुकसान पहुंचा है. ऐसे में तमाम राज्य सरकारें अपने किसानों के हित के लिए कोई ना कोई कदम उठा रही हैं.  

हरियाणा राज्य की सरकार ने भी एक ऐसा ही कदम उठाया है. सरकार के मुताबिक, इस भारी बारिश से आए बाढ़ में अगर किसी किसान की फसल 100 फीसदी तक खराब हो गई है तो उसे 15000 रुपये प्रत‍ि एकड़ की दर से मुआवजा द‍िया जाएगा. इसके अलावा कम एकड़ में हुई खराब फसलों को उसके अनुसार मुआवजा दिया जाएगा.

हरियाणा सरकार द्वारा जारी किए गए आंकड़े के मुताबिक, राज्य में बाढ़ से अब तक लगभग 18000 से अधिक एकड़ की फसल तबाह हो चुकी है. राज्य के लगभग 1353 गांवों में पानी भर गया और अब तक कुल 35 से ज्याद लोगों की जान जा चुकी है.

राज्य सरकार के अनुसार, जिन स्थानों पर फसलों को दोबारा लगाने की गुंजाइश है वहां के किसानों के लिए भी अलग से मुआवजे की व्यवस्था की गई है. सरकार का यह भी कहना है कि इस बाढ़ के चलते जिसके घर के किसी की व्यक्ति की जान गई है तो उनके परिजनों को 4 लाख रुपये के मुआवजे का भी प्रबंध किया जायेगा.

ऐसे करें मुआवजे के लिए क्लेम

अगर आपकी फसल को इस बाढ़ से नुकसान पहुंचा है तो मुआवजे के लिए आप राज्य सरकार द्वार जारी किए गए ई-क्षत‍िपूर्त‍ि पोर्टल पर जाकर आवेदन कर सकते हैं. आपके आवेदन के पश्चात दिए गए विवरण का वेरिफिकेशन किया जाएगा और फिर एक वेरिफिकेशन के बाद ही मुआवजे की रकम आपके बैंक खाते में भेज दी जाएगी.

ये भी पढ़ें: सरकार की ऐसी 5 योजनाएं जो कृषि मशीनों पर देंगी 80% तक सब्सिडी

इसके अलावा सरकार ने ड‍िजास्टर मैनेजमेंट फंड से बाढ़ प्रभाव‍ित इलाकों के जानवरों के रख-रखाव के लिए भी मुआवजा देने का फैसला लिया है. पशुओं को इस बरसात के समय में कोई बीमारी ना हो इसके लिए 50 लाख पशुओं के टीकाकरण का भी प्रबंध किया जा रहा है.

English Summary: Government is giving compensation of 15 thousand rupees per acre to the farmers of flood affected area Published on: 21 July 2023, 03:05 IST

Like this article?

Hey! I am रवींद्र यादव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News