Government Scheme

खुशखबरी: किसान 50% सब्सिडी के साथ लगाएं अमरूद और किन्नू के बाग, जानें आवेदन की प्रक्रिया

kinnu

उत्तर प्रदेश के आगरा में खेती करने वाले किसानों के लिए एक बड़ी खुशखबरी है. दरअसल, राज्य सरकार अमरूद और किन्नू के बाग लगाने पर किसानों को 50 प्रतिशत सब्सिडी देगी. बताया जा रहा है राज्य के आगरा जिले में अभी तक 100 किसानों ने अपना पंजीकरण भी करा लिया है. राष्ट्रीय एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजना में 50 प्रतिशत सब्सिडी के साथ आगरा में 85 हेक्टेयर मे किन्नू की बागवानी करने का लक्ष्य किया गया है. इसके साथ ही 10 हेक्टेयर में अमरूद की खेती का लक्ष्य रखा गया है, जिसमें अभी तक 100 किसानों ने 50 हेक्टेयर किन्नू की खेती और 5 हेक्टेयर अमरूद की खेती के लिए पंजीकरण करा लिया है.  अभी इस योजना में 35 हेक्टेयर किन्नू और 5 हेक्टेयर अमरूद की खेती बची है.

ये खबर भी पढ़े: State Government Schemes: महिलाओं और बच्चों के लिए 5 अगस्त को शुरू होंगी 2 सरकारी योजनाएं, घर बैठे मिलेगा लाभ

subsidy

50 प्रतिशत सब्सिडी के आवेदन

किसान उद्यान विभाग के पोर्टल पर जाकर ऑनलाइन पंजीकरण करा सकते हैं. बता दें कि इस योजना में पौधे लगाने के बाद उद्यान विभाग जियोग्राफिकल टैगिंग कर इनकी मानीटरिंग करेगा. इसके बाद 3 साल में किसान को 50 प्रतिशत सब्सिडी खाते में भेज दी जाएगी.  

जानकारी के लिए बता दें कि किसानों ने किरावली के कुकथला गांव में आलू, गेहूं की खेती सीमित कर फुलवारी और बागवानी से अपनी किस्मत संवारना शुरू कर दिया है. यहां किसान बेर, हायकस, चमेली, अशोक, मौसमी, संतरा,  चीकू, अंगूर, गुलाब, आम, जामुन, शहतूत, , बेलपत्र, इमली के पौधे उगा रहे हैं. इससे आगरा के कई जिलों में इन फसलों की आपूर्ति की जा रही है. इसके साथ ही मध्य प्रदेश और राजस्थान में भी फसल भेजी जा रही है. किसानों का मानना है कि गांव के अधिकांश किसान बागवानी और नर्सरी तैयार कर रहे हैं. इसमें कम लागत में ज्यादा मुनाफ़ा मिलता है, इसलिए किसान इससे प्रेरित हो रहे हैं.

ये खबर भी पढ़े: स्प्रिंकलर सेट पर 80 से 90% तक सब्सिडी पाने के लिए करें आवेदन, जानिए योजना से जुड़ी अहम शर्तें



English Summary: Farmers have been getting 50% subsidy on planting guava and kinnu orchards. Learn the application process

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in