MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सरकारी योजनाएं

निजी नलकूप लगवाने के लिए सरकार दे रही 35,000 रुपये, जानें इसकी खासियत, लाभ व आवेदन प्रक्रिया

खेतों में नलकूप यानि Tubewell की अत्यधिक आवश्यकता होती है. ऐसे में जिस भी किसान को अपने खेत में निजी नलकूप का कनेक्शन लेना है, वो सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना का इस्तेमाल कर सकता है. तो आइये जानते हैं निजी नलकूप योजना के बारे में सबकुछ.

रुक्मणी चौरसिया
रुक्मणी चौरसिया
Private Tubewell Schemes 2022
Private Tubewell Schemes 2022

क्या आपको निजी नलकूप (Private Tubewell) लगाने के लिए अनुदान चाहिए? यदि आपके खेत में निजी नलकूप हो, तो आपकी कई तरह के परेशानी हल हो जाएगी. इसके लिए सरकार ने एक ऐसी योजना चलाई है, जिससे हर किसान अपने खेती में निजी नलकूप लगवाने में समर्थ है. जी हां, हम बात कर रहे हैं बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना (Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana) की.

क्या है बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना (What is Bihar Shatabdi Private Tubewell Scheme)

बिहार की 80% आबादी कृषि पर निर्भर है. जैसा की आप सब को पता है कि कृषि के लिए सिंचाई (Irrigation Scheme) एक प्रमुख कारक है, इसलिए खेत के अंत तक पानी की गारंटी के उद्देश्य से राज्य सरकार बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना (Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana) की शुरूआत की है.

कुछ रिपोर्ट्स के अनुसार, Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana पर 750 करोड़ रुपये खर्च हो चुके हैं. इसके लिए बिहार राज्य के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना अनुदान की ऑनलाइन भुगतान प्रणाली की भी शुरुआत की है.

35 हज़ार रुपये का मिलता है लाभ (Get a benefit of 35 thousand rupees)

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना (Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana) राज्य सरकार द्वारा किसानों को लाभान्वित करने के लिए शुरू की गयी है. बता दें कि बिहार में सूखे के कारण फसल के नुकसान के कारण किसानों की आय कम हो जाती है. बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना के अनुसार 100 मीटर तक की गहराई के ट्यूबवेल के लिए 35 हज़ार रुपये की दर से वित्तीय सहायता प्रदान की जाती है.

क्यों शुरू हुई निजी नलकूप योजना (Why private tube well scheme started)

राज्य के 90-95 प्रतिशत किसान लघु एवं सीमांत वर्ग के हैं, इसलिए वे सिंचाई संसाधनों का विकास करने के लिए आर्थिक रूप से सक्षम नहीं हैं. यही वजह है कि राज्य में कृषि विकास और उत्पादन को बढ़ाने के लिए अनुदान आधारित बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना (Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana) लागू की गई है.

बिहार राज्य में सूखे की वजह से फसल नुकसान के कारण किसानों की आय कम हो जाती है. इस पर काबू पाने के लिए योजना के तहत 35 हजार रुपये तक की सहायता प्रदान की जा रही है. अब तक कई किसान इस योजना से लाभांवित हो चुके हैं.

15 दिनों में मिलता है निजी नलकूप का कनेक्शन (Private tube well connection is available in 15 days)

बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना (Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana) के तहत निजी नलकूप की सरकारी सब्सिडी सीधे खाते में दी जाती है. इसके लिए आपको ऑनलाइन आवेदन करना होता है. वहीं आवेदन स्वीकार करने के बाद 15 दिन में मंजूरी मिल जाती है.

बिहार निजी नलकूप योजना के लिए आवश्यक दस्तावेज (Documents Required for Bihar Private Tube Well Scheme)

  • आवेदक का आधार कार्ड

  • पहचान पत्र

  • मोबाइल नंबर

  • पासपोर्ट साइज फोटो

  • बैंक खाता पासबुक

  • लैंडहोल्डिंग सर्टिफिकेट/भुगतान रसीद

  • प्लांट में नो बोरिंग का सर्टिफिकेट पहले से उपलब्ध है

  • आवास प्रामाण पत्र

  • पत्र / हलफनामा

निजी नलकूप योजना के लिए आवेदन कैसे करें (How to Apply for Private Tube Well Scheme)

  • सबसे पहले आपको बिहार सरकार के लघु जल संसाधन विभाग की आधिकारिक वेबसाइट bihar.gov.in पर जाना होगा.

  • इसके बाद आपके सामने वेबसाइट का होम पेज खुल जाएगा.

  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको आवेदन के विकल्प पर क्लिक करना होगा.

  • इसके बाद आपके सामने आवेदन फॉर्म खुल जाएगा.

  • इस फॉर्म में आपको अपने द्वारा पूछी गई व्यक्तिगत जानकारी जैसे नाम, पता, फील्ड से संबंधित जानकारी, आधार नंबर, मोबाइल नंबर आदि का विवरण दर्ज करना होगा और सभी आवश्यक दस्तावेज अपलोड करके सबमिट बटन पर क्लिक करना होगा.

  • इस तरह बिहार शताब्दी निजी नलकूप योजना (Bihar Shatabdi Niji Nalkup Yojana) के तहत आपका आवेदन सफल हो जाएगा.

English Summary: Bihar Shatabdi Private Tubewell Scheme Registration Published on: 14 March 2022, 12:44 IST

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News