MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सरकारी योजनाएं

Pashudhan Vikas Yojana: किसानों को आत्मनिर्भर बनाएगी मु्ख्यमंत्री पशुधन विकास योजना, जानें इसके लाभ

हमारे देश के हर एक राज्य में खेती का प्रमुख स्थान है, जहां किसान कई फसलों की खेती कर भारतीय अर्थव्यवस्था में अपना अहम योगदान दे रहे हैं. इसमें झारखंड का नाम भी शामिल है. राज्य के किसान खेती के अलावा पशुपालन कर अपनी आय दोगुनी करने का प्रयास कर रहे हैं.

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
​P​​​​ashudhan Vikas Yojana
​P​​​​ashudhan Vikas Yojana

हमारे देश के हर एक राज्य में खेती का प्रमुख स्थान है, जहां किसान कई फसलों की खेती कर भारतीय अर्थव्यवस्था में अपना अहम योगदान दे रहे हैं. इसमें झारखंड का नाम भी शामिल है. राज्य के किसान खेती के अलावा पशुपालन कर अपनी आय दोगुनी करने का प्रयास कर रहे हैं.     

ऐसे में राज्य सरकार भी कृषि से लेकर पशुपालन तक सभी क्षेत्रों में कई तरह योजनाएं चला रही है, जिसका लाभ अधिकतर किसानों को लाभ मिल रहा है. राज्य सरकार का पूरा प्रयास है कि किसानों को और कृषि क्षेत्र में पूरी तरह से आत्मनिर्भर बनाया जाए.

झारखंड मछली उत्पादन में बना आत्मनिर्भर (Aim to give a new identity to the animal husbandry sector)

राज्य सरकार का मानना है कि मछली उत्पादन के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बन चुका है. इसके बाद कृषि और पशुपालन पर खास ध्यान दिया जा रहा है. बता दें कि कृषि और पशुपालन एक दूसरे से जुड़े हुए हैं, इसलिए राज्य में कृषि और पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए मुख्यमंत्री पशुधन योजना ​(P​​​​ashudhan Vikas Yojana) चलाई जा रही है. माना गया है कि अगर पशुपालन को बढ़ावा मिलता है, तो कृषि क्षेत्र का विकास अपने आप हो जाएगा. इस तरह किसानों की आय भी बढ़ेगी.

पशुपालन क्षेत्र को नई पहचान देने का लक्ष्य  (Farmers should take advantage of these 10 schemes)

झारखंड सरकार पशुपालन क्षेत्र को एक नई पहचान दिलाना चाहती है, जिसके लिए मुख्यमंत्री पशुधन योजना ​(P​​​​ashudhan Vikas Yojana) की शुरुआत की गई है. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन का कहना है कि कई वर्षों से लोगों में पशुपालन की परंपरा चली आ रही है, लेकिन इसे कमर्शियल तौर पर कभी नहीं अपनाया गया.

झारखंड सरकार का उद्देश्य है कि किसानों को दूध, मांस और अंडा उत्पादन में वृद्धि लाकर आत्मनिर्भर बनाया जाए. इसके लिए मुख्यमंत्री पशुधन विकास योजना ​(P​​​​ashudhan Vikas Yojana) का संचालन भी किया गया है. इसके जरिए पशुधन विकास से संबंधित समान प्रकृति की योजनाओं को एक पटल पर क्रियान्वित किया जा रहा है.

झारखंड मुख्यमंत्री पशुधन योजना 2021 में आवेदन कैसे करें ?

अगर आप इस योजना का लाभ लेना चाहते हैं और आप इस योजना में आवेदन करना चाहते हैं, तो आप नीचे  दिए गए स्टेप को फॉलो करें :-

  • सबसे पहले अपने नजदीकी पशुपालन विभाग के कार्यालय में जाना होगा.

  • वहां से आपको पशुधन विकास योजना झारखण्ड 2021 का आवेदन फॉर्म लेना होगा.

  • आवेदन फॉर्म में आपको मांगी गई सभी जानकारी सही सही दर्ज करने हैं.

  • फिर इस आवेदन फॉर्म के साथ दस्तावेज अटेच करने हैं और इसे वही पर जमा करवा देना है.

  • इस प्रकार से आपका इस योजना में आवेदन हो जायेगा.

किसान उठाएं इन 10 योजनाओं का लाभ  (The goal of providing employment to the people of the village)

  1. पशुपालन क्षेत्र में बकरी विकास योजना

  2. सुकर विकास योजना

  3. बैकयार्ड लेयर कुक्कुट योजना

  4. बॉयलर कुक्कुट पालन योजना

  5. बत्तख चूजा वितरण योजना

  6. गव्य विकास क्षेत्र में दो दुधारू गाय का वितरण

  7. कामधेनु डेयरी फार्मिंग अंतर्गत मिनी डेयरी के तहत 5 से 10 गाय वितरण की योजना

  8. हस्त एवं विद्युत चलित चैफ कटर का वितरण

  9. प्रगतिशील डेयरी कृषकों को सहायता

  10. तकनीकी इनपुट सामग्रियों का वितरण

गांव के लोगों को रोजगार देना का लक्ष्य

झारखंड की एक प्रमुख समस्या है कि यहां विषम भौगोलिक स्थिति की वजह से गांव में रोजगार पैदा नहीं होते हैं. ऐसे में गांव के लोग पलायन कर दूसरी ओर जाने लगते हैं. कोरोना संक्रमण काल में लाखों की संख्या में प्रवासी श्रमिक अपने गांव लौट आए हैं, जिन्हें रोजगार देना एक चुनौती थी. ऐसे में राज्य सरकार द्वारा गांव में ही स्वयं का रोजगार देने की पहल की गई.

English Summary: benefits of pasudhan vikas yojana Published on: 18 September 2021, 05:12 IST

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News