1. खेती-बाड़ी

गेहूं की जेडब्ल्यू (एमपी) 3288 किस्म की करें बुवाई, पैदावार 65 क्विंटल/ हेक्टेयर तक

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

Wheat Cultivation

मध्यप्रदेश के किसानों के लिए गेहूं की कई ऐसी किस्में विकसित की गई हैं, जिससे फसल का अच्छा उत्पादन प्राप्त हो सकता है. यह एक ऐसी किस्म है, जिससे तेज गर्मी में भी फसल झुलसेगी नहीं और न ही उस पर कीट व्याधि प्रकोप का असर होगा. इतना हीं नहीं, गेहूं का पौधा आंधी आने के बाद भी झुकेगा नहीं. खास बात है कि इसका उत्पादन अन्य किस्मों की तुलना में 5 क्विंटल प्रति हेक्टेयर बढ़ेगा. दावा किया गया है इस किस्म को जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर के वैज्ञानिक एवं अनुसंधानकर्ता द्वारा विकसित किया गया है, जिसको जेडब्ल्यू (एमपी) 3288 किस्म के नाम से जाना जाता है.

गेहूं की जेडब्ल्यू (एमपी) 3288 किस्म

यह किस्म 110 दिन में फसल तैयार कर देती है, जिससे लगभग 55 से 65 क्विंटल तक पैदावार प्राप्त हो सकती है. सामान्य तौर पर गेहूं की फसल को पकने के लिए 120 दिन लगते हैं. मगर जेडब्ल्यू (एमपी) 3288 किस्म में एक खासियत है कि इस किस्म की फसल तेज हवा-आंधी आने पर भी झुकती नहीं है.

गेहूं की एमपी 3382 किस्म

इसके अलावा गेहूं में मुख्य रूप से पीला रतुआ, गेरूआ रोग और काला कंडुआ रोग का प्रकोप हो जाता है. यह रोग फफूंद के रूप में फैलता है. जब तापमान में वृद्धि होती है, तो गेहूं को पीला रतुआ रोग लग जाता है, जिससे गेहूं की उपज काफी प्रभावित होती है. 

यह रोग कृषि वैज्ञानिकों के लिए एक चुनौती बन गया है, इसलिए कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर ने गेहूं की एमपी 3382 किस्म विकसित की है, जो 110 दिन में फसल को पककर तैयार हो जाती है. यह एक तापमान रोधी किस्म मानी गई है.  

अगर कोई किसान इन किस्म को खरीदना चाहते हैं, तो वह जवाहरलाल नेहरू कृषि विश्वविद्यालय जबलपुर या अपने नजदीकी कृषि विज्ञान केंद्र पर पहुंचकर बीज ले सकते हैं.

English Summary: varieties of wheat: Sow JW (MP) 3288 variety of wheat, yield up to 65 quintals / ha

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News