1. खेती-बाड़ी

फिर भारत आएंगे चीन से सेब, भारतीय वैज्ञानिक करेंगे जांच

किशन
किशन

फिर भारत आएंगे चीन से सेब, भारतीय वैज्ञानिक करेंगे जांच

अब जल्द ही आपको अपने देश में चीन से आए हुए सेब और नाशपाती खाने को मिल जाएंगे। दरअसल भारत ने चीन से इनके निर्यात को लेकर कई तरह करी संभावनाएं तलाशना शुरू कर दिया है। दरअसल वर्ष 2017 में चीन से आने वाले फलों में कीड़े और फंगस लग गए थे जिसके बाद इनके आयात पर पूरी तरह से रोक लगा दी गई थी। अब देश से जाकर बाहर चीन में भारतीय वैर्निक खुद वहां के सेब और नाशपाती का निरीक्षण करेंगे। इस सारे निरीक्षण के बाद ही इस बात को तय किया जाएगा कि इन फलों का आने वाले समय में आयात किया जाएगा।

वाणिज्य मंज्ञालय कर रहा विचार

दरअसल देश के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के जरिए मिली जानकारी के मुताबिक मंत्रालय के अधिकारियों के मुताबिक मंत्रालय के अधिकारियों ने चीन के कस्टम विभाग के उप मंत्री से दिल्ली में मुलाकात भी की थी। इसमें अधिकारियों ने जेंग को भगोसा दिलाया है कि भारत को सेब और नाशपाती निर्यात करने की चीन की मांग पर गैर फरमाया जाएगा।

भारतीय वैज्ञानिक करेंगे जांच

चीन से आने वाले फलों के कीड़े और फंगस मिलने के बाद नेशनल प्रोटेक्शन आर्गेनाइजेशन ने चीन के क्वालिटी सुपरविजन,  इंस्पेक्शन विभाग को कई चेतावनी भेजी। इसके बाद भारत ने चीन से फलों के निर्यात पर पूरी तरह से रोक लगा दी थी।  चीन ने भारत को भरोसा दिलवाया था कि यह समस्या दोबारा न आए इसके लिए विभाग कड़े कदम उठाएगा। अब एनपीपीओपी चीन में सेब और नाशपाती के बागानों के फलों की प्रोसेसिंग और पैकेजिंग यूनिट का दौरा करने के लिए एक टीम भेजेगी। यह टीम रिव्यू करेगी कि फलों को कीड़ों और फंगस से दूर रखने के लिए सफाई के क्या कदम उठाए गए है।

भारतीय सेब की मांग बढ़ी

2016 में भारत ने चीन से 1.25 लक टन के आसपास सेब का आयात किया था। चीनी सेब के आयात पर प्रतिबंध लगने पर लोकल सेब की डिमांड में काफी ज्यादा इजाफा देखने को मिला है। इसके बावजूद भारत चीन से सेब और नाशपाती का आयात करने के लिए तैयार हो गया है. क्योकि चीन ने फलों के आयात को मंजूरी दी है। हाल ही में चीन ने भी भारतीय अंगूर का निर्यात शुरू किया है।

English Summary: The taste of apple apples in China

Like this article?

Hey! I am किशन. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News