1. खेती-बाड़ी

दूर तक प्रसिद्ध है सवाई माधोपुर के अमरूद

राजस्थान के सवाई माधोपुर जिले के लोगों का बागवानी की ओर रूझान बढ़ा है। यहां के अमरूदों की मिठास ना केवल गांवों बल्कि शहरों में भी प्रसिद्ध है। आजकल सवाई माधोपुर के अमरूदों की मिठास बेहद ही महंगी है। वर्तमान में अमरूद का खुदरा भाव 35 से 50 रूपये किलो है। वहां के क्षेत्र में इन दिनों फिलहाल करीब आठ हजार हेक्टेयर भूमि पर लगे पेड़ों पर अमरूद आने लगे हैं। यहां प्रतिदिन करीब सौ छोटी गाड़ियों से अमरूद आसपास के गांवों से लद कर जयपुर, दिल्ली सहित अन्य राज्यों की मंडियों में भेजा जा रहा है। 

खेतों से शहरों तक

इस जिले के अमरूदों की मिठास राजस्थान समेत नई दिल्ली तक प्रसिद्ध है। यहां के अमरूदों के दाम शहरों की मंडियों के मुकाबले अन्य स्थानों के मुकाबले में मिठास होने से अधिक बढ़ गए है। शहरों के खरीददार किसानों से सीधे संपर्क कर सकते है। किसानों का कहना है कि वर्तमान में अमरूद का दाम अच्छा मिल रहा है। उन्होंने बताया कि सवाई माधोपुर में 35 से 40 रूपये किलो तक का भाव बेचा जा रहा है।

सात अरब तक व्यवसाय की उम्मीद

उद्यान विभाग के अनुसार जिले में अमरूद का कारोबार सात अरब तक पहुंचने की उम्मीद है जो कि अपने आप में एक बड़ा रिकॉर्ड है। वहीं डेढ़ से दो लाख मीट्रिक टन के उत्पादन होने की आशा की जा रही है जो कि आने वाले समय में और बढ़ने की उम्मीद है।

जिले में अमरूद के बगीचे

चौथकाबरबाड़ा, बौंली, बामनवास, गंगापुर, खण्डार, करमोदा, सूरवाल, खिलचीपुर, मैनपुरा, सेलु, रावल आदि जगहों पर 8 हजार हेक्टेयर में किसानों की ओर से अमरूदों के बगीचे को लगाया गया है। इसके अलावा आगे भी अमरूदों के बगीचे लगाने की योजना पर कार्य किया जा रहा है।

मांग बढ़ने से बढ़े दाम

किसानों का अमरूद की फसल पर कहना है कि फिलहाल अमरूद का उत्पादन काफी बेहतर चल रहा है जिसके चलते किसानों को अमरूदों के काफी अच्छे दाम मिल रहे है। इस बार आठ लाख हेक्टेयर में अमरूद के बगीचे स्थापित हैं जिससे व्यापार के लगातार बढ़ने की उम्मीद है।

किशन अग्रवाल, कृषि जागरण

English Summary: Sawai Madhopur guava is famous for far

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News