1. खेती-बाड़ी

कपास निर्यात में कमी की आशंका

चालू खरीफ के सीजन में कपास की पैदावार में कमी आ जाने से निर्यात  के घटने की पूरी आशंका है। कपास का निर्यात चालू सीजन में घटकर 50 से 55 लाख गांठ ही होने का अनुमान है, जबकि पिछले साल 69 लाख गांठ का निर्यात हुआ था। कपास की निर्यातक फर्म के. सी. टी. एंड एसोसिएट के डायरेक्टर राकेश राठी ने बताया कि चालू सीजन में कपास के घरेलू उत्पादन में कमी की आशंका है, इसका असर निर्यात के सौदों पर भी पड़ रहा है। अक्टूबर से शुरू हुए चालू कपास के सीजन में अभी तक 20 से 22 लाख गांठ के निर्यात सौदे हुए है जबकि 12 लाख रूपये की शिपमेंट हो चुकी है। उन्होंने कहा कि चीन की आयात की मांग को देखते हुए पहले अनुमान था कि 70 लाख गांठ से ज्यादा का निर्यात हो जाएगा। उन्होंने कहा कि चीन की आयात मांग को देखते हुए पहले अनुमान था कि 70 लाख गांठ से ज्यादा का निर्यात हो जायेगा, लेकिन वर्तमान में अब लगता है कि निर्यात 50 से 55 लाख गांठ का ही हो पायेगा।

विश्व बाजार में भारतीय कपास सस्ती

विश्व बाजार में भारतीय कपास सस्ती है, लेकिन आगे निर्यात मांग रुपये के मुकाबले डॉलर का भाव क्या रहता है और विश्व बाजार में कपास के भाव कैसे रहते हैं, इसपर निर्भर करेगा। भारतीय कपास के भाव की बात करें तो फिलहाल विश्व बाजार में 84 से 85 सेंट प्रति बुसल है जबकि अफ्रीकी देशों की कपास का भाव 90 सेंट प्रति पाउंड है। इस समय भारत से बंगलादेश और वियतनाम की आयात मांग बनी हुई है।

दैनिक आवक  फीसदी घटी

कॉटन कारर्पोरेशन ऑफ इंडिया (सीसीआई) के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि गुजरात और महाराष्ट्र में कपास की पैदावार में ज्यादा कमी आई है। पहली अक्टूबर से शुरू हुए चालू सीजन में 30 नवंबर तक कपास की दैनिक आवक 29 फीसदी घटकर 46 लाख गांठ की ही हुई है जबकि पिछले सीजन में 65 लाख गांठ की आवक हुई थी।

सीएआई और सीएबी के उत्पादन अनुमान में अंतर

कॉटन एसोसिएशन ऑफ इंडिया (सीएआई) के तीसरे आरंभिक अनुमान के मुताबिक फसल सीजन 2018-19 में कपास का उत्पादन घटकर 340.25 लाख गांठ ही होने का अनुमान जताया गया है जबकि पिछले साल 365 लाख गांठ कपास का उत्पादन हुआ था। कॉटन एडवाइज़री बोर्ड (सीएबी) के अनुसार चालू सीजन में कपास का उत्पादन 361 लाख गांठ होने का अनुमान है जबकि फसल सीजन 2017-18 में 370 लाख गांठ कपास का उत्पादन हुआ था।

गुजरात में उत्पादन कम होने का अनुमान

गुजरात के कृषि निदेशालय द्धारा जारी किए गए पहले आरंभिक अनुमान के अनुसार फसल सीजन 2018-19 में राज्य में कपास का उत्पादन घटकर 88.28  लाख गांठ ही होने का अनुमान है जबकि पिछले साल राज्य में 101.28  लाख गांठ कपास का उत्पादन हुआ था।

किशन अग्रवाल, कृषि जागरण

English Summary: Cotton export fears fall

Like this article?

Hey! I am . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News