MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

प्याज-सब्जी की खेती को चौपट कर रही पार्थेनियम घास, पढ़िए इसकी पूरी जानकारी

भारत के उत्तर इलाकों में पार्थेनियम घास के उगने से किसानों की फसल बर्बाद हो रही है. लाख कोशिश के बाद भी किसानों को इस परेशानी का हल नहीं मिल रहा...

लोकेश निरवाल

किसान भाई अपनी फसल को लेकर हमेशा परेशानी में रहते हैं. कहीं बारिश अच्छी ना होने की वजह से तो कहीं फसल में उगाने वाली पार्थेनियम घास से किसान बहुत परेशान हैं. आपको बता दें कि सब्जी और प्याज की खेतों में उगा पार्थेनियम घास किसानों की फसल को बर्बाद कर रहा है. लाख बचाव के बाद भी किसान अपनी फसल को इस घास से छुटकारा नहीं दिला पा रहे हैं. पार्थेनियम घास ने दिन पर दिन किसानों की मुश्किलें बढ़ती जा रही है. जहां एक तरफ दियारांचल में प्याज की खेती सहित सिमरी, डुमरी, चक्की, काजीपुर, भेड़िया, अरक, धनंजयपुर, कठार, जवही आदि की खेती अच्छी हुई है. वहीं उत्तरी इलाका में पार्थेनियम घास ने इनकी खेती को बुरी तरह से अपना प्रभाव डाला है.

प्याज के साथ अन्य फसल भी आई चपेट में (Along with onion, other crops were also affected)

उत्तरी इलाकों के किसानों का कहना है कि फसलों में पार्थेनियम घास के उगने से प्याज के साथ-साथ अन्य फसल भी धीरे-धीरे इसकी चपेट में आ रही है. अपनी इस परेशानी का हल निकालने के लिए किसानों ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (Chief Minister Nitish Kumar) से भी बात की है, कि वह किसानों को पार्थेनियम की इस समस्या से जल्द ही निजात दिलाए. किसानों का कहना है कि दियारांचल में एक चौथाई फसल से अधिक इसकी चपेट में आ चुकी है.

किसानों का कहना है, कि पार्थेनियम घास पिछले चार दशक से किसानों के लिए परेशानी बनी हुई है. अपनी इस परेशानी को किसानों ने बिहार विधानसभा तक उठाया है, लेकिन इसके उन्हें अभी तक कोई फायदा नहीं प्राप्त हुआ है. पार्थेनियम घास को लेकर किसानों का कहना हैं, कि जब हम इसे फसल के बीच से उखाड़ते है, तो इसे हाथों में खुजली व एलर्जी(itchy hands and allergies) हो जाती है. कृषि वैज्ञानिकों के पास भी इस परेशानी का अभी तक कोई ठोस हल नहीं मिला है.

दियारांचल के किसानों की परेशानी को लेकर किसान युवराज चंद्रविजय सिंह ने भी मुख्यमंत्री, प्रधानमंत्री, कृषि विभाग के प्रधान सचिव तथा वीर कुंवर सिंह कृषि विश्वविद्यालय (agricultural university) के वैज्ञानिकों को पत्र भी लिखा है, लेकिन अब तक सरकार की तरफ से इससे जुड़ी किसी भी की भी परेशानी पर कोई काम शुरू नहीं किया गया है.

ये भी पढ़ेंः खेत की मेंढ़ पर सब्जी की खेती करें और कमाएं 50 हजार रूपए प्रति एकड़

क्या है पार्थेनियम घास ? (What is parthenium grass?)

पार्थेनियम घास (parthenium grass) को लेकर वीर कुंवर सिंह कृषि कॉलेज के वैज्ञानिकों द्वारा बताया गया है कि यह घास उत्तरी अमेरिका के उष्ण भागों में सबसे अधिक पाई जाती है और भारत में यह घास गेहूं के बीज के साथ मिलकर आया है. यह एक शाकीय पौधा है, जो लगभग 90 सेमी लेकर एक मीटर तक ऊंचा है.

फिलहाल के लिए इसके बचाव के लिए किसानों को समय रहते पार्थेनियम घास को फूल आने से पहले ही नष्ट कर दें, ताकि यह अपने बीज ना फैला पाए और साथ ही छोटे पौधों (small plants) को अपने हाथों से उखाड़ दें. ध्यान रहे कि पौधों को उखाड़ते वक्त अपने हाथों में दस्ताने जरूर पहने. जिससे की यह आपके हाथों को नुकसान ना पहुंचा सके.

English Summary: Parthenium grass increased farmers' problems Published on: 19 April 2022, 05:34 PM IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News