1. खेती-बाड़ी

Mahogany Tree Profit: महोगनी का पेड़ दे रहा करोड़ों का मुनाफा, जानिए कैसे करें इसकी उन्नत खेती

Mahogany Tree

आज हम आपको एक ऐसे पौधे की खेती के बारे में बातएंगे जो बिना देखभाल के आपको भारी मुनाफा दे सकता है. जी हां, हम बात कर रहे हैं महोगनी पेड़ की, जिसे मिश्रित फसल के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है. यह एक ऐसा पेड़ है जो आपकी तिजोरी को अच्छा खासा भर सकता है. तो आइये जानते हैं महोगनी पेड़ की खेती (Mahogany Tree Farming) की पूरी जानकारी.

भारत में महोगनी की खेती (Mahogany farming in India)

खास बात यह है कि महोगनी के पेड़ की कीमत साल दर साल बढ़ रही है और भारत में Mahogany Ki Kheti शुरू करने का यह सही समय है. कोई नहीं कह सकता कि किसी दिन महोगनी के पेड़ की कीमत एक बिटकॉइन की कीमत को छू सकती है. महोगनी के पेड़ की लकड़ी हल्के वजन की होती है और इस पेड़ को घन फुट (Cubic foot) से नापा जाता है.

महोगनी के पेड़ के लिए आवश्यक तापमान (Temperature Required for a Mahogany Tree)

Mahogany के पेड़ को हिमपात क्षेत्र को छोड़कर किसी भी तापमान में उगाया जा सकता है. इस पौधे की खेती के लिए उत्तर भारत सबसे अच्छा है. हालांकि दक्षिण भारतीय क्षेत्र में महोगनी के पेड़ की खेती बड़े पैमाने पर शुरू हो गई है.

महोगनी की खेती के लिए मिट्टी की आवश्यकता (Soil requirement for Mahogany cultivation)

Mahogany के पौधों को किसी भी तापमान और किसी भी मिट्टी में उगाया जा सकता है. स्वभाव से यह हर मिट्टी के अनुकूल है. यह अच्छी जल निकासी वाली दोमट मिट्टी को पसंद करता है.

महोगनी की खेती के लिए आवश्यक पानी (Water required for Mahogany cultivation)

इस पौधे को बहुत कम पानी की आवश्यकता होती है और यह पौधे की विशेषता है. लेकिन आपको शुरुआती दिनों में पौधे की देखभाल करने की आवश्यकता होती है. इसके पेड़ को हर सप्ताह में एक बार और गर्मियों के हर सप्ताह में दो बार पानी देना चाहिए. लेकिन बाद में इसको इतने पानी जरुरत नहीं पड़ती है. बता दें कि इसे वसंत या बरसात के मौसम में पानी की आवश्यकता नहीं होती है.

महोगनी वृक्ष की खेती में प्रयुक्त उर्वरक (Fertilizers Used in Mahogany Tree Cultivation)

भारत में Mahogany Ki kheti आजकल लोकप्रिय हो रही है. हालांकि, महोगनी एक ऐसा पौधा है जिसे कुछ समय के बाद किसी उर्वरक की आवश्यकता नहीं होती है. लेकिन आपको इसे शुरुआती दिनों में खाद देना चाहिए और बाद में आप इसे साल में 2 बार खाद दे सकते हैं. बता दें कि पेड़ 8 महीने या 1 साल के बाद लंबा हो जाता है और महोगनी के पत्ते गिरने लगते हैं.

खास बात यह है कि ये पत्ते अपने आप में जैविक खाद होते हैं क्योंकि मालाबार नीम के पत्तों जैसे समृद्ध गुणों के कारण महोगनी के पत्तों को खाद के रूप में भी इस्तेमाल किया जा सकता है. और साथ ही अगर आप ऐसी खेती कर रहे हैं जिसमें 6 महीने से अधिक समय लगता है तो आपको जैविक खेती करनी चाहिए क्योंकि Jaivik Kheti शुरू करने में धीमी है लेकिन लंबी अवधि में अच्छा और लाभदायक परिणाम दे सकती है।

महोगनी के पेड़ की किस्में (Mahogany Tree Varieties)

  • एंटेंड्रोफ्राग्मा (सपेला महोगनी)

  • न्यूज़ीलैंड महोगनी या कोहेकोहे

  • इंडोनेशियाई महोगनी

  • तूना सुरेनी

  • मेलिया अज़ेदाराच

  • गुलाबी महोगनी या बोस

  • गुआरिया

  • चटगांव (भारतीय महोगनी के रूप में जाना जाता है)

  • चुक्रसिया वेलुटिना

  • भारतीय महोगनी

  • फिलीपीन महोगनी

महोगनी लकड़ी का उपयोग (Use of Mahogany wood)

Mahogany का पेड़ अपने व्यावसायिक मूल्य के लिए जाना जाता है और इसे एक महत्वपूर्ण लकड़ी के रूप में भी माना जाता है. इसका उपयोग इसकी सुंदरता, स्थायित्व, रंग, प्राकृतिक चमक, फर्नीचर, संगीत वाद्ययंत्र और जहाज के पुर्जों के लिए किया जाता है.

महोगनी पेड़ की देखभाल (Mahogany tree care)

आपको 40-45 दिनों की अवधि में कवकनाशी स्प्रे करने की आवश्यकता है और दीमक के लिए कुछ दवा का भी उपयोग कर सकते हैं. साथ यह आप दीमक से छुटकारा पाने के लिए जैविक तरीके का उपयोग कर सकते हैं.

English Summary: Mahogany tree gives profit of crores, know how to cultivate it

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters