MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Rajanigandha Farming: इस अनोखी तकनीक को अपनाकर रजनीगंधा की खेती से पाएं करोड़ों का मुनाफा, जानें संपूर्ण जानकारी

बहुत से किसान है जिन्हें कुछ अलग करने की चाह है जिससे उनकी आय में बढ़ोतरी हो सके.साथ ही ऐसे भी लोग हैं जो अपनी अच्छी सैलरी वाली नौकरी को छोड़ किसानी की तरफ अपना रुख मोड़ रहे हैं. तो ऐसे में आपके लिए रजनीगंधा की खेती काफी फायदेमंद साबित हो सकती है.

रुक्मणी चौरसिया
Rajanigandha Plant (Farming Business of Tuberose)
Rajanigandha Plant (Farming Business of Tuberose)

बहुत से किसान है जिन्हें कुछ अलग करने की चाह है जिससे उनकी आय में बढ़ोतरी हो सके.साथ ही ऐसे भी लोग हैं जो अपनी अच्छी सैलरी वाली नौकरी को छोड़ किसानी की तरफ अपना रुख मोड़ रहे हैं. तो ऐसे में आपके लिए रजनीगंधा की खेती (Tuberose Cultivation) काफी फायदेमंद साबित हो सकती है. तो आइये जानते हैं रजनीगंधा उगाने के  बेहतरीन तरीके (Best ways to grow Rajanigandha) के बारे में.

क्या होता है रजनीगंधा (What is Rajanigandha)

Rajanigandha को  निशिगंधा (Nishigandha) और स्वॉर्ड लिली (Sword Lily) के नाम से भी जाना जाता है. यह एक शाकाहारी बारहमासी पौधा है जिसमें 75-100 सेमी लंबे फूलों का डंठल होता है. इसमें सफेद रंग के 10-20 फ़नल के आकार के फूल होते हैं. कटे हुए फूलों का उपयोग गुलदस्ते बनाने के लिए किया जाता है क्योंकि इसकी मीठी सुगंध होती है. ढीले फूलों का उपयोग माला और वेनी बनाने के लिए किया जाता है. वे गमलों और क्यारियों में उगने के लिए उपयुक्त हैं और तेल निष्कर्षण के लिए उपयोग किए जाते हैं.

रजनीगंधा की किस्में (Tuberose Varieties)

  • रजत रेखा - सिंगल फूल

  • सिंगल मैक्सिकन - सिंगल फ्लावर

  • शृंगार कंद- सिंगल फूल वाला

  • स्वर्ण रेखा - डबल फूल

  • सुवासिनी - डबल फूल

  • पर्लदो फूलों वाली लोकप्रिय किस्म है जो 5 फीट की ऊंचाई पर उगती है.

रजनीगंधा की खेती के लिए जलवायु की आवश्यकता (Climate requirement for Tuberose cultivation)

बेहतर तरीके से बढ़ने के लिए ट्यूबरोज (Rajanigandha) खुली धूप वाली जगहों को पसंद करता है. यह पौधा पेड़ों की छाया से नफरत करता है इसलिए बेहतर होगा कि इसे किसी भी छाया से दूर खुली जगह में लगाया जाए. हालांकि इसके लिए गर्म और आर्द्र जलवायु की आवश्यकता होती है और साथ ही ये फूल शांत जलवायु में होते हैं.

रजनीगंधा उगाने का तापमान (Tuberose growing temperature)

  • Rajanigandha की फसल के लिए आवश्यक तापमान 20°C से 32°C के बीच होता है.

  • कंद कठोरता वाले क्षेत्रों में बढ़ सकता है.

  • कंद के पौधे की दूरी प्रति हेक्टेयर 30 x 30 सेमी होनी चाहिए.

  • 1 एकड़ में 20 x 20 सेमी में 20 से 50 हजार बल्ब फूल लगाए जा सकते हैं.

रजनीगंधा की मिट्टी (Tuberose soil)

Rajanigandha की फसल के लिए बलुई, दोमट मिट्टी सबसे अच्छी होती है. हालांकि, कंद की फसल की व्यावसायिक खेती के लिए उच्च लवणीय, क्षारीय मिट्टी की स्थिति सबसे अच्छी होती है. कंद की खेती के लिए मिट्टी का पीएच 6.5 से 7.5 तक बेहतर होता है. भारत में रजनीगंधा की खेती के लिए सबसे उपयुक्त मिट्टी का चयन करने के लिए कंद के वाणिज्यिक उत्पादक मिट्टी परीक्षण के लिए जा सकते हैं.

रजनीगंधा की खेती के लिए पानी की आवश्यकता (Water requirement for tuberose cultivation)

Rajanigandha के लिए आपको उस भूमि का चयन करना होगा जहां जल निकासी प्रणाली ठीक से काम करती है वरना यह पौधा खराब हो जाता है.

रजनीगंधा फसल की सिंचाई (Tuberose crop irrigation)

Rajanigandha ki kheti के तुरंत बाद सिंचाई करनी चाहिए ताकि उन्हें खेत में रखा जा सके ताकि उन्हें अच्छी मात्रा में नमी मिल सके जो कि वृद्धि के लिए आवश्यक है. रजनीगंधा या निशिगंधा पौधे ऐसे पौधे हैं जो नमी से प्यार करते हैं इसलिए वे ज्यादातर गर्म क्षेत्रों में उगाए जाते हैं. इस फसल की निरंतर और अच्छी वृद्धि के लिए कम से कम चार नियमित गर्म महीने आवश्यक होते हैं.

रजनीगंधा सिंचाई सीजन (Tuberose irrigation season)

  • Rajanigandha को ग्रीष्म ऋतु यानी अप्रैल से जून के महीने में साप्ताहिक आधार पर सिंचाई की आवश्यकता होती है.

  • सर्दियों में 10 दिनों के अंतराल में सिंचाई की आवश्यकता होती है.

  • बता दें कि रजनीगंधा की सिंचाई मिट्टी के प्रकार और जलवायु परिस्थितियों पर भी निर्भर करती है.

रजनीगंधा की खेती में खरपतवार नियंत्रण (Weed control in Tuber cultivation)

Rajanigandha ki kheti में खरपतवार नियंत्रण बुनियादी और युगों की समस्याओं में से एक है. कुछ आवश्यक कदम नीचे सुझाए गए हैं कृपया उच्च उपज के लिए इन चरणों का पालन करें:

  • हर 15 दिन में निराई-गुड़ाई करनी चाहिए.

  • 10-15 दिनों के नियमित अंतराल में मैनुअल निराई आवश्यक है.

  • मिट्टी को खोने और खरपतवारों को उखाड़ने के लिए निराई की प्रक्रिया आवश्यक है.

  • निराई-गुड़ाई नियमित अंतराल में करनी चाहिए.

  • अलाक्लोर, पेंडिमेंटलिन, मेटाक्लोर वीडसाइड नामक कुछ रसायनों का उपयोग करके खरपतवारों को नियंत्रित किया जाता है.

English Summary: Get crores of profits from this unique technique by cultivating your tuberose, know complete information Published on: 10 January 2022, 03:31 PM IST

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News