MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

ब्लू ऑयस्टर मशरूम की बढ़ी डिमांड, कम लागत में ऐसे कमाएं ज्यादा मुनाफा

देश में मशरूम की कई ऐसी प्रजातियां आ गई हैं. जिनकी खेती सालभर होती है किसानों में भी मशरूम खेती को लेकर लोकप्रियता भी बेहद तेजी से बढ़ी है. किसान कम लागत में बढ़िया मुनाफा कमा रहे हैं. इस बीच आपको ब्लू ऑयस्टर मशरूम की जानकारी दे रहे हैं जो एक बंद कमरे में भी उगाया जा सकता है.

राशि श्रीवास्तव
ब्लू ऑयस्टर मशरूम की खेती
ब्लू ऑयस्टर मशरूम की खेती

भारत में मशरूम को अब बहुत ज्यादा पसंद किया जाने लगा है. खासकर बड़े शहरों में लोग मशरूम की अलग-अलग वैरायटी को काफी पसंद कर रहे हैं. कई इलाकों में तो मशरूम की बिक्री आलू-टमाटर-प्याज की तरह हो रही है. यही कारण है कि अब किसान भी पारंपरिक फसलों के साथ-साथ मशरूम उत्पादन की यूनिट भी लगा रहे हैं. भारत में ही सैंकड़ों किस्मों को उगाया और खाया जा रहा है इस बीच ब्लू ऑयस्टर मशरूम ने काफी तारीफें बटोरी हैं. पहले तो ब्लू ऑयस्टर मशरूम सिर्फ पहाड़ी इलाकों में उगाया जाता थालेकिन खेती की नई तकनीक आजाने से अब छोटे से कमरे में भी किसान इसकी खेती कर रहे हैं.

मशरूम की खेती का तरीका

ब्लू ऑयस्टर मशरूम की खेती के लिए सबसे पहले पुआल तैयार करते हैं. जिसे सोयाबीन की खोईगेहूं के भूसेधान के पुआलमक्का के डंठलतिलअरहरबाजारागन्ने की खोईसरसों के पुआलकागज के कचरेकार्डबोर्डलकड़ी के बुरादे जैसे कृषि अवशिष्टों तैयार कर सकते हैं. फिर पुआल को पॉलीथिन बैग में भरकर बिजाई के लिए अच्छे से तैयार कर लेना चाहिएअब सभी बैग के मुंह को बांध दें फिर  सभी बैग में 10-15 छेद कर देंआखिरी में इन्हें किसी अंधेरे और एकांत कमरे में बंद करके छोड़ दें. विशेषज्ञों के मुताबिक़ 15 से 17 दिनों में प्लास्टिक बैग में मशरूम का कवक जाल पूरी तरह से फैल जाएगाकरीब 23 से 24 दिनों बाद पूरी तरह तैयार हो जाएंगेजिसे तोड़ सकते हैं. 

सरकार से मिलती 50 प्रतिशत सब्सिडी

बिहार सरकार के कृषि विभागउद्यान निदेशालय की ओर से एकीकृत बागवानी विकास मिशन के तहत मशरूम की खेती के लिए 50 प्रतिशत तक अनुदान दिया जाता है. योजना के तहत मशरूम उत्पादन इकाई की कुल लागत 20 लाख रुपए निर्धारित है. इस लागत का 50 प्रतिशत खर्च यानी 10 लाख रुपए राज्य सरकार देती है. इस तरह किसानों को 10 लाख तक की सब्सिडी दी जाती है.

मशरूम की खेती करने की ट्रेनिंग

खेती का प्रशिक्षण सभी एकग्रीकल्चर यूनिवर्सिटीज और कृषि अनुसंधान केंद्रों में मिलता है. जहां से इसकी खेती की ट्रेनिंग लेकर बड़े पैमाने पर उत्पादन कर सकते हैं. इन प्रशिक्षण शिविरों में मशरूम की खेतीमशरूम की बिक्री के लिए मार्केट आदि की जानकारी दी जाती है.

यहां से मिलेगा मशरूम का बीज

सरकारी कृषि केंद्र से मशरूम का बीज खरीद सकते हैंसाथ ही प्राइवेट नर्सरी से भी बीज खरीदे जा सकते हैं. हालांकि अब तो ऑनलाइन साइट पर भी बीज उपलब्ध हैं. बता दें मशरूम का बीज 75 से 80 रुपए प्रति किलो मिलेगा लेकिन कई बार बीज की कीमत ब्रांड और किस्म पर भी निर्भर करती है. 

ये भी पढ़ेंः मशरूम की खेती का वादा, लागत कम मुनाफ़ा हो ज्यादा

मशरूम की खेती से लाभ

ब्लू ऑयस्टर मशरूम बाजार में करीब 150 से 200 रुपए प्रति किलो के भाव से बिकता है. ऐसे में खेती से अच्छी कमाई कर सकते हैं. मशरूम का पाउडर बना कर भी बेच सकते हैंक्योंकि बॉडी बिल्डिंग के लिए हैल्थ सप्लीमेंट में इसका बहुत इस्तेमाल होता है.

English Summary: Increased demand for blue oyster mushroom, earn more profit in less cost Published on: 14 March 2023, 10:42 AM IST

Like this article?

Hey! I am राशि श्रीवास्तव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News