MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

खेत की जमीन को स्वस्थ और फसलों की बेहतर उपज के लिए करना होगा ये काम, जानें क्या है तरीका

बागवानी फसलों की अच्छी उत्पादकता और मिट्टी को स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए अच्छे उर्वरक की आवश्यकता होती है.

रवींद्र यादव
Horticultural Crops
Horticultural Crops

भारत दुनिया में बागवानी फसलों का दूसरा सबसे बड़ा उत्पादक है. देश की लगातार बढ़ती मानव आबादी के लिए भोजन की मांग को पूरा करने के लिए फसलों की उत्पादकता और उसकी गुणवत्ता बढ़ाने की आवश्यकता है. हालाँकि, बागवानी फसलों में गैर-नवीकरणीय रासायनिक उर्वरकों के अत्यधिक उपयोग न केवल पर्यावरण और मिट्टी को प्रदूषित किया है, बल्कि यह मानव स्वास्थ्य को भी नुकसान पहुँचा रहा है.

मृदा स्वास्थ्य और गुणवत्तापूर्ण फसलों के उत्पादन के लिए सुरक्षित,पर्यावरण-अनुकूल और कम लागत वाले उर्वरकों की आवश्यकता होती है. बागवानी फसलों की उत्पादकता और मिट्टी के स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए उचित संयोजन में जैविक उर्वरकों और रासायनिक उर्वरकों के उपयोग की आवश्यकता होती है.

जैव उर्वरको में बैक्टीरिया, कवक और एक्टिनोमाइसेट्स का मिश्रण होता है, जिन्हें बीज, जड़ों, मिट्टी या खाद वाले क्षेत्रों में उपयोग किया जाता है. जैविक उर्वरकों के प्रयोग से पौधों की वृद्धि और फसल उत्पादकता में वृद्धि के साथ-साथ मिट्टी की गुणवत्ता और स्वास्थ्य में भी सुधार होता है. जैविक उर्वरकों में मौजूद सूक्ष्मजीव विभिन्न प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष माध्यमों से मिट्टी की पोषक स्थिति को बढ़ाते हैं, जिसमें नाइट्रोजन, फॉस्फोरस को घुलनशील बनाना और फाइटोहोर्मोन, अमोनिया और साइडरोफोरस शामिल है.

फास्फोरस का महत्व

फास्फोरस पौधों की वृद्धि के लिए आवश्यक दूसरा सबसे महत्वपूर्ण पोषक तत्व है. यह पौधों के विकास को तेज करता है. इसकी कमी से पौधों का विकास रुक जाता है और पत्तियां मुरझा जाती हैं. दुनिया भर की अधिकांश मिट्टी में फॉस्फोरस की कमी है क्योंकि रासायनिक उर्वरकों से फॉस्फोरस मिट्टी के प्रकार और पीएच के आधार पर लौह, एल्यूमीनियम और कैल्शियम के अघुलनशील फॉस्फेट के रूप में जमा होता है. बैसिलस, स्यूडोमोनास, एसनेटोबैक्टर, अल्कालिजेन्स, बर्कहोल्डेरिया, एंटरोबैक्टर, इरविनिया, फ्लेवोबैक्टीरियम, माइक्रोबैक्टीरियम, राइजोबियम और सेराटिया जेनेरा से संबंधित सूक्ष्मजीवों में अघुलनशील मिट्टी के फॉस्फेट को घुलनशील करने की क्षमता होती है.

 नाइट्रोजन स्थिरीकरण

सूक्ष्मजीवों द्वारा नाइट्रोजन का स्थिरीकरण किया जाता है. नाइट्रोजन-फिक्सिंग बैक्टीरिया को तीन समूहों में बांटा गया है: 'गैर-सहजीवी', जिसमें एज़ोटोबैक्टर, बजरनिकिया, क्लेबसिएला, पैनीबैसिलस, क्लोस्ट्रीडियम और डेसल्फोविब्रियो शामिल हैं; राइजोबियम और फ्रेंकिया सहित 'सहजीवन'; और एज़ोस्पिरिलम सहित तीन वर्ग शामिल हैं. पौधों की वृद्धि राइजोबैक्टीरिया सूक्ष्मजीव से होती हैं, जो पौधों की जड़ों के आसपास रहते हैं. वे फाइटोहोर्मोन (पौधों के विकास में मदद करने वाले हार्मोन), एंजाइम, साइडरोफोर और अमोनिया आदि के उत्पादन के माध्यम से पौधों पर लाभकारी प्रभाव डालने में सक्षम होते हैं.

ये भी पढ़ें: Nitrogen and availability: जैविक तरीके से नाइट्रोजन की स्टॉक कैसे करें ?

जैविक खाद प्रयोग करने की विधि

  1. प्याज, आलू और हल्दी की खेती में मिट्टी में कंसोर्टियम जैविक उर्वरकों का उपयोग किया जाता है. इसके उपयोग के लिए जैविक खाद (4 किग्रा) को 10 किग्रा मिट्टी के साथ मिलाएं और एक एकड़ खेत में समान रूप से फैला दें.

  2. मटर के खेत के लिए, बीज अनुप्रयोग के रूप में राइजोबियम जीवाणु के उर्वरक का उपयोग किया जाता है. इसकी बुआई के लिए जैविक खाद के एक पैकेट (एक एकड़ के लिए 250 ग्राम) को आधा लीटर पानी में अच्छी तरह मिलाकर घोल बना लें. इस घोल को एक एकड़ की खेती के लिए बीज में मिला दें. इसे किसी साफ़ फर्श या तिरपाल पर फैला कर बीज को छाया में सुखा ले और फिर इसे बिजाई के लिए इस्तेमाल कर सकते हैं.

जैविक उर्वरकों का उपयोग करते समय सावधानियां

  • फसल के लिए हमेशा अनुशसित जैविक खाद का ही प्रयोग करें.

  • फसलों की परिपक्वता (3 महीने) से पहले ही खेतों में जैविक खाद डालें.

  • कम्पोस्ट को हमेशा धूप और गर्मी से दूर ठंडी जगह पर रखें.

  • जैविक खाद से उपचारित बीजों को धूप में न रखें.

  • जैविक खाद डालने के तुरंत बाद बुआई कर दें.

  • जैविक खादों को रासायनिक कीटनाशकों के साथ न मिलाएं.

जैव उर्वरकों की उपलब्धता:

जैव उर्वरक माइक्रोबायोलॉजी विभाग, पंजाब कृषि विश्वविद्यालय, लुधियाना और गेट नंबर 1 पर स्थित बीज की दुकान के साथ-साथ पंजाब के विभिन्न जिलों में स्थित कृषि विज्ञान/फार्म सलाहकार केंद्रों पर उपलब्ध हैं. यह उर्वरक किसानों को मेले में भी उपलब्ध कराया जाता हैं. पंजाब कृषि विश्वविद्यालय, लुधियाना द्वारा आयोजित जैव उर्वरकों के लाभकारी प्रभावों के बारे में किसानों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए प्रशिक्षण शिविर भी आयोजित किए जाते रहते हैं.

पंजाब कृषि विश्वविद्यालय, लुधियाना द्वारा अनुशंसित जैव उर्वरकों के बारे में अधिक जानकारी के लिए माइक्रोबायोलॉजी विभाग, पंजाब कृषि विश्वविद्यालय, लुधियाना से hodambpu.edu पर ईमेल कर या मोबाइल नं 0161-2401960 या एक्सटेंशन 330 पर कॉल कर जानकारी प्राप्त की जा सकती है.

English Summary: - Importance of organic fertilizers for better yield of horticultural crops Published on: 03 August 2023, 01:03 PM IST

Like this article?

Hey! I am रवींद्र यादव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News