Farm Activities

Wheat harvesting: इन राज्यों के हार्वेस्टर ड्राइवरों को मिलेगा पास

किसानों ने रबी फसलों की कटाई करना शुरू कर दिया है. बिहार के किसान भी पूरी तैयारी के साथ खेतों में जुट गए हैं. बता दें कि किसान गेहूं की कटाई कई प्रकार के कृषि यंत्रों से करते हैं. इसके लिए पंजाब समेत कई राज्यों से बड़ी संख्या में कृषि यंत्र मांगाए जाते हैं. लॉकडाउन में केंद्र और राज्य सरकार ने कृषि संबंधित कार्यों और वाहनों को छूट दे दी है. ऐसे में सरकार ने एक अहम फैसला लिया है कि कृषि संबंधी सभी वाहनों के लिए जिला स्तर पर एक पास जारी किया जाएगा.

इन राज्यों से हार्वेस्टर के ड्राइवरों को मिलेगा पास

बिहार के कृषि मंत्री डॉ प्रेम कुमार का कहना है कि इस वक्त सभी जिलों में रबी फसलों की कटाई जारी है. इसके पूरे आंकलन की निरंतर निगरानी रखी जाए, ताकि किसानों को फसलों की कटाई में कोई परेशानी न हो. अगर कोई परेशानी आती है, तो  विभाग के स्तर से आवश्यक निर्णय लिए जाएं. बता दें कि कुछ राज्यों में फसलों की कटाई शुरू हो गई है, तो वहीं कुछ राज्यों में अप्रैल के पहले सप्ताह से फसलों की कटाई शुरू हो जाएगी. इस वक्त देश पर कोरोना वायरस का संकट मंडरा रहा है. ऐसे में किसानों समेत सभी लोगों को सामाजिक दूरी बनाए रखना है. इसके लिए फसलों की कटाई करते वक्त सरकार के बनाए निर्देशों का पालन करना है.

पास निर्गत करने का लिया गया निर्णय

कृषि मंत्री द्वारा जोर दिया जा रहा है कि किसान गेहूं की कटाई हार्वेस्टर या रिपर-कम-बाईंडर द्वारा ही करें. बता दें कि राज्य में बड़े स्तर पर गेहूं की कटाई कंबाईन हार्वेस्टर द्वारा ही की जाती है. इसके चालक पंजाब से आते हैं, जिन पर कोरोना वायरस की वजह से प्रतिबंध लगा है. अगर कंबाईन हार्वेस्टर और उसके चालक बाहर से आते हैं, तो उन सभी को जिला स्तर पर पास जारी किए जाएंगे.

आपको बता दें कि भारत सरकार ने पहले ही कृषि कार्यों को छूट दे दी है. इसके साथ ही कृषि यंत्रों को एक स्थान से दूसरे स्थान पर लाने और ले जाने की छूट दे दी है.  बिहार सरकार ने भी कृषि कार्यों के लिए कृषि कार्य, मजदूरों, कस्टम हायरिंग सेंटर को, खाद-बीज, कीटनाशी दवा, फसल कटाई, बुवाई समेत कई कृषि कार्यों को करने का निर्णय लिया है.

ये खबर भी पढ़ें:कृषि इनपुट अनुदान योजना का पैसा चाहिए, तो 18 अप्रैल तक करें आवेदन



English Summary: harvester drivers will get a pass to harvest wheat

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in