1. खेती-बाड़ी

हवा में आलू उगाने पर मिलेगी 10 गुना ज्यादा पैदावार, जानिए क्या है ये नई तकनीक?

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Aeroponic Potato Farming

Aeroponic Potato Farming

देशभर के कई राज्यों में आलू की खेती (Potato Farming) को प्रमुखता दी जाती है. आज तक किसानों ने जमीन में ही आलू उगाए होंगे, लेकिन क्या आपने कभी किसने सुना या देखा है कि हवा में भी आलू उग सकते हैं. जी हां, अब हवा में आलू उगना भी मुमकिन हो पाएगा.

दरअसल, एक ऐसी नई तकनीक विकसित की गई है, जिसकी मदद से अब आलू बिना मिट्टी और जमीन के उगाए जाएंगे. इससे किसानों को 10 गुना ज्यादा मुनाफ़ा भी मिल पाएगा. आइए आपको इस तकनीक के बारे में विस्तार से बताते हैं.    

क्या है नई तकनीक

इस नई तकनीक को एरोपोनिक (Aeroponic Potato Farming) के नाम से जाना जाता है. इस तकनीक से आलू की बंपर पैदावार होगी.

किसने विकसित की तकनीक

आपको बता दें कि हरियाणा के करनाल जिले में स्थित आलू प्रौद्योगिकी केंद्र (Potato Technology Center) ने एरोपोनिक तकनीक (Aeroponic Potato Farming) पर काम किया है. इस तकनीक के मदद से न सिर्फ जमीन की कमी को पूरा किया जाएगा, बल्कि आलू की फसल से 10 गुना तक अधिक पैदावार भी ली जाएगी. बता दें कि आलू प्रौद्योगिकी केंद्र, करनाल का इंटरनेशल पोटेटो सेंटर के साथ एमओयू हुआ है. इसके बाद केंद्र सरकार द्वारा एरोपोनिक तकनीक से आलू की खेती करने की मंजूरी दी गई. किसानों को इस तकनीक के प्रति जागरूक किया जाएगा, जिसके जिम्मेदारी बागवानी विभाग को किसानों दी गई है.

कैसे काम करेगी तकनीक

जानकारों का कहना है कि एयरोपोनिक तकनीक में लटकती हुई जड़ों के जरिए न्यूट्रीएंट्स दिए जाते हैं. इस तकनीक से आलू उगाने में मिट्टी और जमीन की आवश्यकता नहीं पड़ती है.

बेहतर विकल्प

किसानों के लिए परंपरागत खेती के मुकाबले एरोपोनिक तकनीक ज्यादा लाभाकारी साबित होगी. इसके जरिए बीज के उत्पादन की क्षमता को 3 से 4 गुना तक बढ़ा जा सकेगा. इस तकनीक से हरियाणा के अलावा अन्य राज्यों के किसानों को भी लाभ होगा.

English Summary: Farmers will get good production from Aeroponic Potato Farming

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News