MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. खेती-बाड़ी

Apple farming in summer: गर्म जलवायु में सेब उगाने के टिप्स और ट्रिक्स

भारत की गर्म जलवायु में सेब की खेती के लिए अतिरिक्त ध्यान और देखभाल की आवश्यकता होती है. लेकिन आप कुछ बातों का ध्यान रखकर गर्म जलवायु में भी सेब उगा सकते हैं. किन बातों का ध्यान रखना है इस लेख में इसपर ही चर्चा करेंगे.

अनामिका प्रीतम
Apple farming in summer
Apple farming in summer

भारत में सेब की खेती ज्यादातर हिमाचल प्रदेश सहित पहाड़ी इलाकों में की जाती है. इसके पीछे का कारण ठंडा जलवायु और कम तापमान है. देश के गर्म जलवायु वाले क्षेत्रों में सेब की खेती करना किसी चुनौती से कम नहीं है. लेकिन सेब की उपयुक्त किस्मों और कुछ बातों का ध्यान रख गर्म जलवायु में भी सेब उगाना संभव है.

गर्म जलवायु के लिए सेब की किस्मों का चयन

गर्म जलवायू में सेब की खेती करने के लिए उन किस्मों का चयन करें जो गर्मी के प्रति उनकी सहनशीलता के लिए जानी जाती हैं. इसकी कुछ किस्में इस प्रकार हैं- अन्नाडॉर्सेट गोल्डन और एचआरएमएन-99 जैसी सेब की किस्मों ने गर्म जलवायु में भी अच्छा प्रदर्शन कर भारतीय परिस्थितियों के लिए उपयुक्त बन गई हैं.

जगह का चुनाव

एक ऐसा स्थान खोजें  जिसमें प्रति दिन कम से कम सीधी धूप पड़ती हो. पर्याप्त वायु महत्वपूर्ण हैइसलिए स्थिर हवा वाले क्षेत्रों में रोपण से बचें. ऊंचे या ढलान वाले क्षेत्र पेड़ों पर अत्यधिक गर्मी के तनाव को कम करने में मदद कर सकते हैं.

मिट्टी की तैयारी

मिट्टी तैयार करते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि यह अच्छी तरह से जल निकासी वाली है और कार्बनिक पदार्थों से भरपूर है. इसका पीएच स्तर 6 से 7 तक होना चाहिए. इसे निर्धारित करने के लिए मिट्टी का परीक्षण करें. मिट्टी के सुधार के लिए जैविक खाद या अच्छी तरह से सड़ी हुई खाद का इस्तेमाल कर सकते हैं.

सिंचाई कैसे करें

जब आप गर्म तापमान में सेब की खेती करते हैं तो सिंचाई महत्वपूर्ण हो जाती है. ऐसे में विशेष रूप से शुष्क अवधि के दौरान लगातार और पर्याप्त सिंचाई पौधे को प्रदान करें. मिट्टी को समान रूप से नम रखें लेकिन अधिक पानी देने से बचें. क्योंकि अधिक पानी की वजह से जड़ सड़ने का डर रहता है. पानी की बचत और सीधे जड़ तक पानी पहुंचाने के लिए ड्रिप सिंचाई प्रणाली पर विचार करें.

खरपतवार नियंत्रण

मिट्टी की नमी को बनाए रखनेमिट्टी के तापमान को नियंत्रित करने और खरपतवार के विकास को रोकने के लिए सेब के पेड़ों के चारों ओर जैविक गीली घास की एक परत लगाएं. ये मिट्टी के कटाव को कम करता है और इससे खरपतवार भी नियंत्रित रहते हैं.

छंटाई और प्रशिक्षण तकनीकें

सेब के पेड़ों के स्वास्थ्य और उत्पादकता को बनाए रखने के लिए नियमित छंटाई जरूरी है. ऐसे में समय-समय पर मृतरोगग्रस्त या अत्यधिक घने शाखाओं को हटा दें. उचित छंटाई तकनीकों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं, जो बेहतर वायु प्रवाह और सूर्य के प्रकाश को प्रवेश करने के लिए अच्छा होता है.

ये भी पढ़ें: Seb Ki Kheti: पूरे भारत में उगा सकते हैं सेब की ये 3 किस्में, होगा जबरदस्त मुनाफा

कीट और रोग प्रबंधन

ख़स्ता फफूंदीसेब की पपड़ी या अग्नि अंगमारी जैसे रोगों के संकेतों के लिए नियमित रूप से पेड़ों का निरीक्षण करें और उनके प्रभाव को कम करने के लिए तुरंत उचित उपाय करें.

फलों का पतला होना

फलों की गुणवत्ता और आकार बढ़ाने के लिए बढ़ते मौसम के दौरान अतिरिक्त फलों को हटा दें. ये बचे हुए फलों को पर्याप्त पोषक तत्व और धूप प्राप्त करने में मदद करेगा, जिसके परिणामस्वरूप स्वस्थ और स्वादिष्ट सेब बनते हैं. फलों के बीच उचित दूरी रखने का लक्ष्य रखें.

कटाई और भंडारण

कटाई के बाद सेब को ठंडे और अच्छी तरह हवादार क्षेत्र में स्टोर करें ताकि उनकी शेल्फ लाइफ को बढ़ाया जा सके.

English Summary: Apple farming in summer: Tips and tricks to grow apples in hot climates Published on: 02 June 2023, 12:36 PM IST

Like this article?

Hey! I am अनामिका प्रीतम . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News