MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. सम्पादकीय

वो दिन भी कहां चले गये जब दरवाजों पर गाय देती थी दस्तक

गाय सेवा सबसे बड़ी सेवा है. गाय का महत्व वैदिक काल से ही काफी रहा है. आज के परिवेश में हम गाय जिसे मां मानते उसके प्रति भी संवेदनहीन है. वो वक्त भी कितना बदल गया है जब सुबह-सुबह गाय घरों पर दस्तक देती थी, अपने हिस्से की रोटी खाती थी. आज के समय में ना घरों में गाय के हिस्से की रोटी बनती हैं और ना ही घर के दरवाजों पर गाय दस्तक देती हैं.

सावन कुमार
सावन कुमार
Cow has been given importance since the Vedic period
Cow has been given importance since the Vedic period

आज के दौर में हर कोई भौतिक विज्ञान और रसायन विज्ञान की तरफ अग्रसर है. इस विज्ञान की दुनिया में किसी के सामने यदि धर्म चर्चा की जाए तो यह कहकर टाल दिया जाता है कि मनुष्य की सभी आवश्यकताओं को विज्ञान पूरा कर रही है, फिर धर्म की दुहाई क्यों? यदि विज्ञान-भक्ति का चश्मा उतारकर शुद्ध दृष्टि से देखें तो मालूम होगा विज्ञान और धर्म का चोली-दामन का रिश्ता है. ये दोनों परस्पर सापेक्ष हैं. हिन्दू संस्कृति में जहां धर्म की प्रधानता दी गई है. वहीं विज्ञान की भी उपेक्षा नहीं की गई है.

गो सेवा-प्रधान धर्म

हिन्दू संस्कृति में गो सेवा धर्म को प्रधान धर्म माना गया है. वैदिक काल से लेकर आज तक गो-गरिमा के गीत गाए जाते हैं. धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष इन चारों पुरुषार्थों के साधन का मूल स्वरुप गो माता ही हैं. वेद, शास्त्र, पुराण और साधु-संतों ने इन देवी की मुक्तकंठ से प्रशंसा की है. हिन्दू धर्म का सौभाग्य और वैभव गोमाता से ही है. हमारे राष्ट्र का जीवन गो माता पर ही अवलम्बित है. ऐसा माना जाता है गो माता सुखी तो राष्ट्र सुखी. लेकिन आज हम गो सेवा और गो सुरक्षा की बात पर विचार करना ही नहीं चाहते हैं.

इसे भी पढ़ें : कुछ हट कर: राजनीति के दांव पक्के और जनता कच्ची

वेदों में गाय के दूध को अमृत कहा गया

गाय हमारे लिए कोई पशु नहीं है बल्कि ये हमारी मां हैं. हमारी आस्था काफी ही प्रगढ़ है. साथ ही साथ  ये एक आर्थिक और सामाजिक संस्था है. हमारा शाकाहार प्रधान देश अपने आहार के आवश्यक तत्वों के लिए मुख्यतः गाय के दूध पर निर्भर है. आज गो ज्ञान अपने आप में एक विषय बनता जा रहा है और आने वाले समय में जन समूह तक फिर से गाय महिमा सुनाई जायेंगीं और हमें ये समझना पड़ेगा गो हत्या या गो को संरक्षण न देना अपने राष्ट्र को गर्त में भेजने से कम साबित नहीं होगा. 'यतो गावस्ततो वयं' अथार्त गायें है, इसीलिए ये बात हम सभी को ध्यान में रखना चाहिए. वेदों में गाय के दूध को अमृत कहा गया है. धर्मशास्त्र तो गोधन की महानता और पवित्रता का वर्णन करता ही है. साथ ही भारतीय अर्थशास्त्र में भी गोपालन का विशेष महत्व है. कौटिल्य अर्थशास्त्र में गो पालन और गो रक्षण का विस्तृत विवरण मिलता है.

गाय माता होते हुए भी आज हो रहीं हैं तिरस्कृत

आज गाय माता को हम मां तो मानते हैं लेकिन कहीं ना कहीं हमारी संवेदना गाय के प्रति घटती जा रही है. साथ ही कई गाय पालकों को देखा जाता है कि वो गाय के प्रति तभी अपनी सहानुभूति दिखाते हैं जब गाय दुहना होता है. उसके बाद गाय कहां है. कहां विचर रही है, क्या खा रही है,  इससे कोई मतलब नहीं. सड़क-चौराहों पर देखने को मिल ही जाता है कि गाय कभी कूड़े को खाती है तो कभी पॉलिथीन में फेंकी कोई साम्रगी को निगल जाती है. जिसकी वजह से गाय के पेट में पॉलिथीन होने से उसे कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं. साथ ही पेट में पॉलिथीन जाने की वजह से पाचन क्रिया बाधित हो जाती हैं. ये दृश्य बताती है कि हम गाय माता को लेकर कितने सजग व संवेदनशील हैं.

वेदों में गाय के दूध को अमृत कहा गया

गाय हमारे लिए कोई पशु नहीं है बल्कि ये हमारी मां हैं. हमारी आस्था काफी ही प्रगढ़ है. साथ ही साथ  ये एक आर्थिक और सामाजिक संस्था है. हमारा शाकाहार प्रधान देश अपने आहार के आवश्यक तत्वों के लिए मुख्यतः गाय के दूध पर निर्भर है. आज गो ज्ञान अपने आप में एक विषय बनता जा रहा है और आने वाले समय में जन समूह तक फिर से गाय महिमा सुनाई जायेंगीं और हमें ये समझना पड़ेगा गो हत्या या गो को संरक्षण न देना अपने राष्ट्र को गर्त में भेजने से कम साबित नहीं होगा. 'यतो गावस्ततो वयं' अथार्त गायें है, इसीलिए ये बात हम सभी को ध्यान में रखना चाहिए. वेदों में गाय के दूध को अमृत कहा गया है. धर्मशास्त्र तो गोधन की महानता और पवित्रता का वर्णन करता ही है. साथ ही भारतीय अर्थशास्त्र में भी गोपालन का विशेष महत्व है. कौटिल्य अर्थशास्त्र में गो पालन और गो रक्षण का विस्तृत विवरण मिलता है.

गाय माता होते हुए भी आज हो रहीं हैं तिरस्कृत

आज गाय माता को हम मां तो मानते हैं लेकिन कहीं ना कहीं हमारी संवेदना गाय के प्रति घटती जा रही है. साथ ही कई गाय पालकों को देखा जाता है कि वो गाय के प्रति तभी अपनी सहानुभूति दिखाते हैं जब गाय दुहना होता है. उसके बाद गाय कहां है. कहां विचर रही है, क्या खा रही है,  इससे कोई मतलब नहीं. सड़क-चौराहों पर देखने को मिल ही जाता है कि गाय कभी कूड़े को खाती है तो कभी पॉलिथीन में फेंकी कोई साम्रगी को निगल जाती है. जिसकी वजह से गाय के पेट में पॉलिथीन होने से उसे कई तरह की बीमारियां हो जाती हैं. साथ ही पेट में पॉलिथीन जाने की वजह से पाचन क्रिया बाधित हो जाती हैं. ये दृश्य बताती है कि हम गाय माता को लेकर कितने सजग व संवेदनशील हैं.

English Summary: Cow has been given importance since the Vedic period. Published on: 22 September 2023, 01:50 IST

Like this article?

Hey! I am सावन कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News