1. कंपनी समाचार

टैक्टर की बिक्री में आया बड़ा उछाल, कृषि क्षेत्र से मिलेगा देश की अर्थव्यवस्था को सहारा

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

जब से देश पर कोरोना महामारी का संकट छाया है, तब से देश की अर्थव्यवस्था लगातार बिगड़ती जा रही है. मगर इस संकट की घड़ी में कृषि क्षेत्र से एक बड़ा सहारा मिलता दिख रहा है. दरअसल, हाल ही में जीडीपी के आंकड़े जारी किए गए हैं. इन आंकड़ों के मुताबिक, पहली तिमाही में कृषि क्षेत्र को छोड़ अर्थव्यवस्था के दूसरे हर सेगमेंट में गिरावट आई है. बता दें कि तिकृषि क्षेत्र की आर्थिक विकास दर यानी जीडीपी 3.4 प्रतिशत रही है. अगर चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही की बात की जाए, तो देश की जीडीपी में 23.9 प्रतिशत की कमी आई है. ऐसा पिछले 40 साल में पहले कभी नहीं हुआ है कि देश की जीडीपी में इतनी बड़ी कमी आई हो.

सभी जानते हैं कि कोरोना महामारी के चलते ज्यादातर सेक्टर मंदी से जूझ रहे हैं, लेकिन कृषि क्षेत्र ने एक बहुत बड़ी उम्मीदें जगाई हैं. इसकी एक झलक टैक्टरों की बढ़ती बिक्री से मालूम पड़ती है. बता दें अगस्त में महिंद्रा एंड महिंद्रा कंपनी (Mahindra&Mahindra Company) के ट्रैक्टरों की बिक्री में 65 प्रतिशत उछाल आया है. कंपनी ने कुल 24,458 टैक्टरों की बिक्री की है., जबकि पिछले साल अगस्त में 14,817 ट्रैक्टरों की बिक्री हुई थी. इस साल कंपनी ने अगस्त में 955 ट्रैक्टर का निर्यात किया. यह पिछले साल अगस्त में 946 ट्रैक्टर के निर्यात से 1 प्रतिशत अधिक है.

एमएंडएम के प्रेसिडेंट का कहना है कि अगस्त में ट्रैक्टर इंडस्ट्री की ग्रोथ लगातार मजबूत हुई है. यह केवल खरीफ फसलों के बुवाई क्षेत्र में वृद्धि से की वजह से हुआ है. इसकी वजह से ही ट्रैक्टरों की मांग बढ़ी है. उम्मीद करते हैं कि आगे भी यह मांग बनी रहेगी.

एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी की बिक्री बढ़ी

अगस्त में कृषि उपकरण कंपनी एस्कॉर्ट्स एग्री मशीनरी के ट्रैक्टर की बिक्री 80.1 प्रतिशत बढ़कर 7,268 इकाई पर पहुंच गई है. साल 2018 अगस्त में कंपनी ने 4,035 ट्रैक्टर बेचे थे. इस तरह अगस्त में घरेलू बाजार में कंपनी की ट्रैक्टर बिक्री 79.4 प्रतिशत बढ़कर 6,750 इकाई पर पहुंच गई है.

English Summary: Sales of tractors of Mahindra & Mahindra Company have increased by 65 percent

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News