Corporate

Amazon ने विदेशी बीजों की बिक्री पर लगाया बैन, बिना ऑर्डर मिल रहे थे रहस्मयी पैकेट

ऑनलाइन ई-रिटेल कंपनी अमेजन (Online e-retail company Amazon) ने एक अहम फैसला किया है. कंपनी ने अमेरिका में विदेशी बीजों की बिक्री को बैन (Ban the sale of foreign seeds) कर दिया है. बताया जा रहा है कि हजारों संख्या में अमेरिकी नागरिकों ने बीज के पैकेट मिलने की कंपनी से शिकायत की थी, जबकि उन्होंने इसका ऑर्डर नहीं किया था. खबरों की मानें, तो ग्राहकों को मिलने वाले बीजों के पैकेट ज्यादातर चीन के थे. इसके चलते ही कंपनी ने यह अहम फैसला लिया है.

Amazon ने विदेशी बीजों की बिक्री पर लगाई रोक

कंपनी का कहना है कि हमने नीति को अपडेट किया. इसमें विदेशी बिक्रेताओं को सलाह दी है कि अब से अमेजन अमेरिका में पौधे या बीज की आयात की इजाजत नहीं देगा. बता दें कि कंपनी उन उत्पादों पर रोक लगाई है, जिसे अमेरिकी कृषि विभाग ने हानिकारक करार दिया है. इसके अलावा सरकारी क्वारंटीन का सामना कर रहे उत्पादों, छूने या खाने से घातक होने वाले उत्पादों की भी इजाजत नहीं है.

Amazon की संशोधित नीति की गाइडलाइन्स

अगर कंपनी की संशोधित नीति की गाइडलाइन्स का पालन नहीं किया जाएगा, तो इससे विक्रेताओं के अकाउंट प्रभावित होने का खतरा है. हालांकि, कंपनी ने साफ नहीं किया है कि अमेरिका से बाहर के विक्रेताओं को कब तक उसके प्लेटफार्म पर बीज और पौधों को बेचने की इजाजत होगी.

अमेरिकी नागरिकों ने की शिकायत

जानकारी मिली है कि अमेरिकी लोगों को जुलाई में पैकेट पर चीनी अक्षरों वाला सामान आने लगा था. इसके बाद 50 प्रांतों को सुरक्षा की चेतावनी जारी की गई. इस दौरान कृषि विभाग ने बताया था कि अमेरिकी नागरिकों को बीज के पैकेज भेजे गए हैं. इसके साथ ही कृषि विभाग ने को खतरा बताते हुए बीज को नहीं रोपने की चेतावनी दी थी. इन रहस्मयी पैकेज का परीक्षण किया गया, जिसमें कम से कम 14 अलग-अलग प्रकार के बीजों का पता चला. इसमें पुदीना, सरसों, रोजमैरी, लैवेंडर, हिबिस्कुस, गुलाब के बीज थे. बताया जा रहा है कि ये पैकेट बिना ऑर्डर के भेजे गए थे. यह ऑनलाइन साजिश का हिस्सा हो सकता है. अक्सर जालसाजी में विक्रेता उपभोक्ताओं को कम कीमत वाले बीज मुफ्त में भेजते हैं. हर फर्जी 'बिक्री' से एक ऑनलाइन रिव्यू मिलता है. इससे विक्रेता बाजार में अपनी साख बना पाता है.



English Summary: Amazon Company Banned the sale of foreign seeds

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in