आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. सफल किसान

तीन दोस्तों ने शुरू की सीप से मोती निकालने की खेती, कमा रहे अच्छा मुनाफ़ा

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
farmer

आज के समय में एक तरफ युवा अपने नौकरी और भविष्य को लेकर परेशान रहते हैं, तो वहीं तरफ उत्तर प्रदेश के वाराणसी जिले के तीन पढ़े-लिखे युवा नौकरी छोड़कर चर्चा में आ गए हैं. ये तीनों दोस्त नए जमाने की कृषि करके आत्मनिर्भर बनने में जुटे हैं.

यह तीनों दोस्त वाराणसी के चिरईगांव ब्लॉक के चौबेपुर क्षेत्र के गांव नारायनपुर के रहने वाले हैं. इन दिनों तीन दोस्तों की खूब चर्चा हो रही हैं, क्योंकि ये गांव के लोगों को नए युग की कृषि सिखा रहे हैं. तीनों दोस्तों ने गांव के ही अपने मकान के बाहर छोटे तालाब बनाएं. इन पढ़े-लिखे युवा किसान का नाम श्वेतांक, रोहित और अमित है, जो कि सीप से मोती निकालने की खेती कर रहे हैं. इतना हीं नहीं, खेती के साथ-साथ मधुमक्खी पालन और बकरी पालन भी कर रहे  हैं.

खेती से मिलता है 3 गुना ज्यादा मुनाफ़ा

युवा किसानों का कहना है कि मोती की खेती पारंपरिक खेती से थोड़ी अलग है. वह एक कृषि उद्यम की मदद से मोती की खेती कर रहे हैं. युवा किसान श्वेतांक ने एमए-बीएड कर रखा है. इसके बावजूद मोती की खेती में रूचि आ गई. उन्होंने इंटरनेट की मदद से मोती की खेती से जुड़ी जानकारी ली. एक जगह से ट्रेनिंग भी ली. आज के समय में रोजाना नए लोग उनसे जुड़ते जा रहें हैं. उन्होंने बताया कि सीप से मोती निकालने के काम में 3 गुना ज्यादा मुनाफा मिल रहा है.

ये खबर भी पढ़े: 24 साल की उम्र में छत पर उगाए फल, फूल, सब्जी और मसाले, ज़रूर पढ़िए इस सफल किसान की कहानी

farmer

खेती के साथ मधुमक्खी और बकरी पालन

युवा किसान मोहित आनंद पाठक मधुमक्खी पालन की देखभाल करते हैं. उन्होंने बीएचयू से बीए कर रखा है. लेकिन वह पारंपरिक खेती की जगह कुछ नया करने की सोच रखते हैं. ऐसे में दिल्ली गांधी दर्शन से प्रशिक्षण लेने के बाद मधुमक्खी पालन करने लगे. इसके तहत वाराणसी में खुद काम शुरू कर दिया. अब वह खुद दूसरों किसानों को प्रशिक्षित कर रहे हैं. इतना ही नहीं, उनसे शहद बेचने वाली कंपनियां और औषधालय भी शहद ले जाते हैं. इसके अलावा वह बकरी पालन भी करते हैं.

नौकरी छोड़ की खेती

इन तीनों दोस्तों में से रोहित आनंद पाठक एक हैं, जो तकि एक समिति कृषि उद्यम से पहले खुद एक प्रतिनिधि के रूप में जुड़े थे. इसके बाद अपने दोस्तों के साथ मिलकर नई शुरूआत की है. उन्होंने कोरोना काल में एक बड़ी कंपनी के रीजनल हेड की नौकरी छोड़ दी और वाराणसी वापस आ गए. इसके बाद तीनों दोस्तों ने खेती की शुरुआत की.

उनका कहना है कि इस साल कोरोना महामारी ने कुछ नया सिखाया है. आने वाले दिनों में परिवेश काफी तेजी से बदल रहा है. ऐसे काम के जरिए हम खुद के लिए आमदनी का एक जरिया पैदा कर रहे  हैं, साथ ही खुद को नए वातावरण में ढाल भी रहे हैं. बता दें कि तीनों दोस्तों की इस मुहिम से यूपी सरकार के कैबिनेट मंत्री और इलाके के विधायक काफी खुश हैं.

ये खबर भी पढ़े: किराए की जमीन पर सब्जियों की खेती कर कमा रहे लाखों रुपए, जानें इस सफल किसान की कहानी

English Summary: Three friends started cultivating pearls from oysters, making good profits

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News