1. सफल किसान

Black Pepper Farming: 10 हज़ार की लागत से 17 लाख कैसे कमा रहा ये किसान

Black Pepper Farming

अपने लक्ष्य के लिए परिश्रमी और जुनूनी होना बहुत जरुरी है, क्योंकि परिश्रम का फल तभी सफलता देता है. कुछ ऐसी ही ख़बर सेवन सिस्टर्स (Seven Sisters) से भी आ रही है. जी हां 61 वर्षीय मेघालय (Meghalaya) के किसान नानाद्रो बी मारक (Nanadro B Marak) ने 10,000 रुपये से अपने निवेश की शुरुआत की थी और काली मिर्च (Black Pepper) के लगभग सौ पेड़ लगाए थे जिसकी हर गुजरते साल के साथ संख्या बढ़ती रही और वो मुनाफ़ा कमाते रहे.

जैविक खेती से उगाई काली मिर्च (Black pepper grown from organic farming)

मारक वेस्ट गारो हिल्स के एक अग्रणी किसान थे, जिन्होंने सबसे पहले काली मिर्च की करीमुंडा किस्म लगाई, जो मध्यम आकार, शाहबलूत-काले रंग के अनाज देता है. इस क्षेत्र के अन्य किसानों के विपरीत, नानंद्रो जैविक खेती (Organic Farming) पर अड़े रहे और शुरू से ही किसी भी हानिकारक रसायनों के उपयोग से सख्ती से परहेज करते थे. पहले तीन वर्षों के लिए, पेड़ों को नुकसान हुआ, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी. इसके बजाय वो कीटों को मारने के लिए पर्यावरण के अनुकूल विकल्प लेकर आए.

आज नैनंद्रो की किस्म प्रति पेड़ औसतन 3.2 किलो उपज देती है. यह राज्य के अन्य उत्पादकों की तुलना में लगभग तीन गुना अधिक है. फसल की परिपक्वता अवधि 8-9 महीने है, और नैनंद्रो ने इस तरह से चक्र बनाया है कि वह साल में दो बार फसल काटता है.

मिर्च के बाद, दूसरा 2,550 किलो देता है जिससे यह हर साल कुल 10,000 किलो से अधिक हो जाता है. 170 रुपये प्रति किलो की औसत कीमत के साथ, नानंद्रो ने 2019 में 17 लाख रुपये के राजस्व प्राप्त किया, जिससे यह एक बहुत ही टिकाऊ मॉडल बन गया.

नानाद्रो बी मारक ने कहा कि “काली मिर्च एकमुश्त निवेश पोस्ट है जो हर साल रिटर्न देती है. चौथे वर्ष तक, रखरखाव की लागत भी काफी कम हो जाती है."

किसानों को कर रहे प्रेरित (Other farmers are motivating)

नानंद्रो की सफलता को देखकर, कई किसान अक्सर उनके पास सुपारी के पेड़ों के साथ काली मिर्च उगाने की सलाह और प्रशिक्षण के लिए आते हैं. वह उन लोगों के लिए जिले भर में प्रशिक्षण सत्र भी लेते हैं जो इसे अपने गांव नहीं बना सकते हैं.

नानंद्रो की काली मिर्च उगाने के बुनियादी कदम (Basic Steps to Growing Nandro Peppers)

  • प्रत्येक काली मिर्च के पेड़ और बीच में सुपारी के पौधे के बीच 8×8 फीट की दूरी बनाए रखें.

  • काली मिर्च की गुणवत्ता में सुधार करने के लिए परिपक्व जामुन को सूखने से पहले एक मिनट के लिए उबलते पानी में भिगो दें. यह एक समान रंग देता है, माइक्रोबियल भार को कम करता है और धूल जैसी अशुद्धियों को दूर करता है.

  • सूखे पत्तों, घास और केले के तने से जमीन को मल्च करें. जड़ क्षति से बचने के लिए बेलों के आधार को परेशान न करें.

  • सूखी गाय के गोबर की खाद, वर्मी कम्पोस्ट और कम्पोस्ट (10-20 किलो प्रति पौधा) का प्रयोग करें.

  • बेरीज को स्पाइक से अलग करने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए थ्रेशर मशीन का उपयोग करें.

  • कटाई के समय काली मिर्च में नमी की मात्रा 70 प्रतिशत तक होती है. पर्याप्त धूप में सुखाने के साथ इसे घटाकर 10 प्रतिशत करें. नुकीले बेरीज को सिलपॉलिन शीट पर 3-5 दिनों के लिए धूप में फैलाएं.

पद्म श्री अवार्डी हैं नाना दो बी मारक (Nandro B Marak is a Padma Shri awardee)

बता दें कि हाल ही में मेघालय के नानाद्रो बी मारक को 119 पद्म पुरस्कार विजेताओं की सूची में रखा गया था और ये पद्म श्री पुरस्कार पाने वाले 102 लोगों में से एक थे.

English Summary: Black Pepper Farming: How is this farmer earning 17 lakhs at the cost of 10 thousand

Like this article?

Hey! I am रुक्मणी चौरसिया. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters