1. ग्रामीण उद्योग

नमकीन से होगी कमाई, ये रहा मास्टर प्लान

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार
namkin

भारत का हर राज्य अपने एक अलग एवं अनोखे खान-पान की संस्कृति के लिए जाना जाता है. लेकिन एक बात सभी राज्यों में खास है और वो है नमकीन. जी हां, इस बात से इंकार नहीं किया जा सकता कि स्वाद और उसे बनाने की विधि में अतंर होने के बाद भी देश के लगभग हर राज्य में नमकीन का सेवन बड़े चाव से किया जाता है. यह उद्योग आज़ 25 प्रतिशत सीएजीआर की रफतार से आगे बढ़ रहा है, जिससे पता लगता है कि यहां कमाई के अपार संभावनाएं मौजूद है.

वैसे शादी हो या जन्मदिन या हो कोई पार्टी, साल का कोई भी महीना ऐसा नहीं होता, जब नमकीन की मांग ना हो. कोई मेहमान आ जाए तो सबसे पहले चाय नमकीन का ही नाशता कराना आज़ भी शिष्टाचार है.

रा मटैरियल

नमकीन के सैंकड़ों प्रकार हैं, अब यह आप पर निर्भर करता है कि आप किस तरह की नमकीन बनाना चाहतें हैं. वैसे मूल रूप से नमकीन बनाने के लिए मसाले, तेल और बेसन आदि की जरूरत पड़ती है, जो आसानी से मार्केट में कहीं भी मिल जाएगी.

namkin

कितना करना होगा इन्वेस्टमेंट

शुरूआत में आप छोटे स्तर से यह काम प्रारंभ करते हुए आसपास या मौहल्ले में सेल कर सकते हैं. जिसके लिए किसी मशीन की आवश्यक्ता नहीं है. आप घर के सदस्यों के साथ मिलकर ही किराने की दुकानों या घर-घर जाकर नमकीन बेच सकते हैं. बाद में मुनाफा होने पर 50 से 60 हज़ार के बीच का इन्वेस्टमेंट प्रयाप्त है.

अगर आप चाहें तो काम में मदद के लिए दो चार वर्कर भी रख सकते हैं और अपने उत्पाद को एफएसएसएआई में रजिस्ट्रेशन भा कर सकते हैं. इससे आपके उत्पाद को जहां एक तरफ विशेष पहचान मिलेगी, वहीं आपको भी मुनाफा ज्यादा होगा

English Summary: scope in snacks making business

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News