1. ग्रामीण उद्योग

घर बैठे शुरू करें रंग बिरंगी मोमबत्तियां बनाने का बिज़नेस, सरकार करेगी मदद

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
candle making

आज के दौर में बेरोजगारी तेजी से बढ़ रही है और युवाओं के लिए नौकरियां कम होती जा रही हैं. ऐसे में अपने खुशहाल जीवन जीने के लिए काफी कठिनाई उठानी पड़ती है. आज का दौर वो दौर है जिसमें महिला और पुरूष, दोनों पैसा कमाने की इच्छा रखते हैं लेकिन उनके सामने सवाल खड़ा होता है कि आखिर क्या करें जिससे आय अच्छी हो सके. अगर आप में से किसी के मन में भी यह सवाल है, तो ये खबर आपके लिए पढ़ना बेहद ज़रूरी है क्योंकि हम आपको बताने जा रहे हैं एक ऐसे बिजनेस के बारे में, जिसको घर बैठे आराम से किया जा सकता है.

खास बात यह है कि इस बिज़नेस को हर कोई आसानी से शुरू कर सकता है. हम हाथ से बनीं मोमबत्तियोँ की बात कर रहे हैं. आपको बता दें कि बाजारा में कैंडल या फिर मोमबत्तियोँ की डिमांड हमेशा बनी रहती है,  इसलिए यह बिज़नेस बहुत ज्यादा लाभकारी साबित हो सकता है. मोमबत्तियों की मांग पारंपरिक, धार्मिक उद्देश्य के साथ सजावट के लिए होती है. साथ ही बर्थडे सेलिब्रेशन और त्योहारों पर इसकी मांग दोगुनी हो जाती है. इसके अलावा घरों और होटलों में भी मांग बढ़ रही है, ताकि इनसे एक खास माहौल बना रहे.

कितना करें निवेश

घर में मोमबत्ती बनाने के लिए ज्यादा लागत की ज़रूरत नहीं पड़ती है. आप इस बिज़नेस को 20 हजार से 30 हजार में शुरू कर सकते हैं. अगर मोमबत्ती बनाने की मशीन का उपयोग भी करना चाहते हैं, तो इसमें आपको 50 हजार से 1 लाख रुपये तक की ज़रूरत पड़ेगी. इसके अलावा बैंक से लोन लेने के लिए भी अप्लाई कर सकते हैं.

candle Making

मोमबत्ती बनाने के लिए सामग्री 

मोमबत्ती बनाने के लिए कई तरह की सामग्री और उपकरणों की ज़रूरत पड़ती है.

सामग्री                                              उपकरण                              

मोम                                                काँच का बर्तन

मोमबत्ती के धागे                                   सॉस पैन या पॉट

मोमपत्ती रखने के लिए पॉट                       कटार या चीनी काँटा

ईथर के तेल                                        टेप

रंग                                                  गैस स्टोव

खाने का तेल                                       कैंची

andle

मोमबत्ती बनाने की विधि

  • सबसे पहले मोम को एक गहरे बर्तन में पिघलाने के लिए रखें. इसको घी की तरह पिघला लें, साथ ही जिस रंग की मोमबत्ती बनानी है, उस रंग को भी मिला दें.

  • इसके बाद मोमबत्ती के साँचे को किसी कपड़े से साफ कर लें और सूती कपड़े को गीला कर उसको एक समतल जमीन या फिर किसी बेंच पर बिछा लें. अब इसके ऊपर साँचे को रखें. ध्यान दें कि सांचे पर खाने का तेल लगा लें, जिससे उस पर मोम चिपक न पाए.

  • अब सांचे पर बने चिन्हों की मदद से धागा लपेट लें.

  • अब पिघले हुए मोम को किसी कटोरी या फिर चम्मच से लेकर सांचे पर रखें.

  • इसके बाद सांचे को पानी से भरी हुई बाल्टी में ठंडा होने के लिए रख दें. मोम को सांचे में जमाने के लिए करीब 10 से 15 मिनट का वक्त लगता है.

  • मोम जमने के बाद सांचे के धागों को काट दें.

  • अब सांचे की ऊपर की तरफ जमे हुए मोम को बीचोबीच चाकू से काटकर सांचे के दोनों भागों के क्लैंप खोलकर अलग करें.

  • अब सांचे से मोमबत्तियों को बाहर निकाल लें, साथ ही दूसरे सिरे को ब्लेड से काटकर प्लेन बना लें, ताकि वह अटके ना.

  • अंत में मोमबत्तियों को आकर्षित तरीके से पैक कर दें.

सावधानियां 

  • मोम को पिघलाते समय कोई दूसरा काम नहीं करना चाहिए, क्योंकि उससे आग लगने का डर होता है.

  • मोम को पिघलाएं, उबालें नहीं.

  • सांचे में धागे को कसकर लपेटना चाहिए.

  • सांचे को पानी से भरी बाल्टी में अच्छे से डुबाएं.

सरकार करेगी मदद

मोमबत्ती का बिज़नेस लघु उद्योग की श्रेणी में आता है. केंद्र और राज्य सरकारों का खादी ग्रामोद्योग इसे बढ़ावा देता रहता है. इसके लिए कई प्रोत्साहन और प्रशिक्षण के कार्यक्रम भी होते रहते हैं. इसमें सरकार की तरह से सहायता दी जाती है. बता दें कि महिलाओं, अनुसूचित जाति या अनुसूचित जन जाति वर्ग से जुड़े लोगों को ऋण में 30 प्रतिशत तक की छूट मिलती है.

बाजार में मोमबत्तियां भेजें

बाजार में अपनी अलग छवि बनाने के लिए मोमबत्तियों की पैकिंग आकर्षित तरीके से करनी चाहिए. इनको आप किराने की दुकान, मॉल, स्टेशनरी की दुकान पर संपर्क करके बेच सकते हैं. इसके अलावा  आप खुद घर-घर जाकर भी इन्हें बेच सकते हैं.

English Summary: how to start candle making business from home

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News