1. ग्रामीण उद्योग

Tulsi Business देगा अच्छा मुनाफा, इन कंपनियों के साथ जुड़कर करें शुरू

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Tulsi Business

Tulsi Business

आजकल प्रदूषण एक ऐसी समस्या बन गया है, जिससे कई गंभीर बीमारियों पैदा होती हैं. इससे बचने के लिए अधिकतर लोग नैचुरल प्रोडक्ट्स (Natural Products) और मेडिसीन (Medicine) का इस्तेमाल कर रहे हैं, इसलिए बाजार में इनकी मांग लगातार तेजी से बढ़ रही है. 

ऐसे में अगर आप खुद का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं, तो औषधिय पौधों (Medicinal Plant) की खेती से शुरुआत कर सकते हैं. इसमें लागत कम लगती है और लंबे समय तक मुनाफा भी सुनिश्चित रहता है. आइए आपको औषधीय पौधों (Medicinal Plant) की खेती से कर मुनाफा कमाने की जानकारी देते हैं.

औषधीय पौधों की खेती (Cultivation of medicinal plants)

सबसे खास बात यह है कि इसकी खेती के लिए लंबे-चौड़े फार्म की जरूरत नहीं होती है और न ही ज्यादा लागत की जरूरत पड़ती है. अगर आप इसकी खेती करना चाहते हैं, तो आप कॉन्ट्रैक्ट पर भी खेती कर सकते हैं. जी हां, आज के समय में कई कंपनियां ऐसी हैं, जो कॉन्ट्रैक्ट पर औषधियों की खेती कराती हैं. इस तरह आप औषधियों की खेती कर अच्छी कमाई कर सकते हैं. उदाहरण के लिए बताते चलें कि आप तुलसी की खेती भी कर सकते हैं. तुलसी के कई प्रकार होते हैं, जिनसे यूजीनोल और मिथाईल सिनामेट होता है. इनके उपयोग से कैंसर जैसी गंभीर बीमारी की दवा बनाई जाती है.

तुलसी की खेती में लागत (Cost of basil cultivation)

इसकी खेती शुरू करने में कुछ हजार रुपए ही खर्च करने की जरूरत पड़ती है. मगर आप इनके जरिए लाखों रुपए की कमाई कर सकते हैं. देश में कई ऐसी दवा कंपनियां हैं, जो फसल खरीदने तक का कॉन्ट्रैक्ट करती हैं. इससे आपकी कमाई भी सुनिश्चित हो जाती है.

ये कंपनियां करा रही हैं कॉन्ट्रैक्ट फॉर्मिंग (These companies are doing contract forming)

अगर आप तुलसी की खेती करना चाहते हैं, तो आप पतंजलि, डाबर, वैद्यनाथ आदि आयुर्वेद दवा बनाने वाली कंपनियों से संपर्क कर सकते हैं. ये कंपनियां कांट्रेक्टं फार्मिंग कराती हैं. इसके साथ ही फसल को खरीदती भी हैं.

जानकारी के लिए बता दें कि आप तुलसी की खेती से अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं, क्योंकि तुलसी के बीज और तेल की बड़ा बाजार है. जहां हर दिन नए रेट पर तेल और तुलसी बीज खरीदे जाते हैं.

तुलसी व्यवासय करने के लिए ट्रेनिंग (Tulsi business training)

औषधिय पौधों की खेती करने के लिए अच्छी ट्रेनिंग की जरूरत होती है, ताकि आपको इसकी खेती में किसी तरह का नुकसान न हो. बता दें कि औषधीय पौधों की खेती करने के लिए लखनऊ स्थित सेंट्रल इंस्टीपट्यूट ऑफ मेडिसिनल एंड एरोमैटिक प्लांट (सीमैप) ट्रेनिंग देता है. इसके जरिए कंपनियां कांट्रेक्टट साइन भी करती हैं. इससे आपको काफी सुविधा मिलती है और इधर-उधर भी नहीं जाना पड़ता है.

छोटे-छोटे गमलों में उगाएं तुलसी की पौधे (Grow basil plants in small pots)

कुछ हर्बल प्लांट (Herbal Plants) जैसे तुलसी, आर्टीमीसिया एन्नुंआ, मुलैठी, एलोवेरा आदि बहुत काफी कम समय में तैयार हो जाते हैं. ऐसे में आप कुछ पौधों को छोटे-छोटे गमलों में भी उगा सकते हैं.

तुलसी व्यवासय से मुनाफा (Profit from tulsi business)

हमारे देश में तुलसी को धार्मिक मान्यता दी जाती है, लेकिन इसके औषधीय गुणों की वजह से इसकी खेती से अच्छी कमाई भी की जा सकती है. अगर आप एक हेक्टेयर में तुलसी की खेती करते हैं, तो मात्र 15 हजार रुपए खर्च कर अच्छा मुनाफा कमा सकते हैं.

कृषि जागरण ने तुलसी के व्यापार से जुड़ी अधिक जानकारी के लिए कृषि महाविद्यालय, भरतपुर, राजस्थान के डीन डॉ. उदयभान सिंह से बातचीत की. उन्होंने बताया है कि कोरोना काल के बाद से किसानों के लिए तुलसी की खेती करना काफी लाभकारी साबित होगा. मगर किसानों को तुलसी के व्यापार में समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है.

उनके मुताबिक, बाजार में तुलसी की मांग कम है, इसलिए अगर किसान काफी बड़े स्तर पर तुलसी का व्यापार करना चाहते हैं, तो इसकी कीमत कम मिलती सकती है. मगर इस समस्या का एक समाधान यह है कि किसानों को एक समूह में तुलसी की खेती कर व्यापार करना चाहिए. इससे शायद उन्हें अच्छा मुनाफा हासिल हो. इसके साथ ही मार्केटिंग पर ज्यादा ध्यान देना होगा. अगर आप तुलसी के व्यापार की अच्छी मार्केटिंग कर अपनी पहचान बना सकते हैं, तो निश्चय ही अच्छा मुनाफा हासिल होगा.

English Summary: earn profits by starting tulsi business

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News