1. ग्रामीण उद्योग

पापड़ बिजनेस में है सुनहरे अवसर, उठाएं योजनाओं का लाभ

अगर आप भी बहुत कम लागत में कोई व्यापार शुरू कर करना चाहते है. दूसरे खाद्य पदार्थों के मुकाबले इसकी लोकप्रियता अधिक है. इसकी खपत सिर्फ हर शहर और गांव में है. इस बिजनेस में कमाई के सुनहरे अवसर मौजूद हैं. इसलिए कोई भी व्यक्ति छोटा-बड़े पैमाने पर इसका व्यापार कर सकता है. चलिए आपको बताते हैं कि आप कैसे इससे जुड़ सकते हैं.

शुरुआत

इस काम को करने के लिए बहुत अधिक जगह की जरूरत नहीं है. एक कमरे में भी इसे बनाने का कार्य किया जा सकता है. पापड़ बनाने के लिए करीब 35-40 वर्ग गज जगह की जरूरत है, जबकि इसको सुखाने के 50 वर्ग गज जगह की जरूरत पड़ती है. इस कार्य को एक लाख रुपए की लागत से बड़े आराम से किया जा सकता है. छोटे स्तर पर काम शुरू करना चाहते हैं, तो लागत में और भी कम आएगी.

उठाएं योजनाओं का लाभ

पापड़ बनाने का व्यवसाय शुरू करने के लिए आप कई तरह की सरकारी योजनाओं का लाभ उठा सकते हैं. इसे खरीदने के लिए कई सरकारें मशीनों पर अनुदान भी दे रही है.

ऋण

इस काम को शुरू करने के लिए आप किसी भी बैंक से ऋण ले सकते हैं. वहीं आप प्राइवेट स्तर पर या सरकार द्वारा चलाई जा रही कई विभिन्न स्कीमों का फायदा उठाते हुए आवेदन भी कर सकते हैं. आप चाहें तो खादी ग्रामोद्योग से ट्रेनिंग भी ले सकते हैं. इस जगह से ट्रेनिंग लेने के बाद ये संस्थान और बोर्ड ही आपको श्रण दिलाने में सहायक हो सकते हैं.

आमदनी

इस उद्योग में आमदनी का पूरा खेल मेहनत पर निर्भर है. हालांकि एक औसत अनुमान लगाया जाए तो भी 15 से 25 हजार रूपए महीना आसानी से कमाया जा सकता है. बाकि अगर बाजार की सही समझ और मार्केटिंग का ज्ञान है तो इस मुनाफे को कई गुणा बढ़ाया जा सकता है. पापड़ को आप अपने आसपस के क्षेत्रों में उपभोक्ताओं और दुकानदारों को बेच सकते हैं. ग्रामोद्योग से ऋण लेने वाले लोग खादी ग्रामोद्योग के ही विपणन केंद्रों में तैयार माल बेच सकते हैं. पापड़ बनाने के लिए आप कृषि जागरण के इस लिंक पर क्लिक कर सकते हैं.

English Summary: earn good money and learn papad making by these government schemes

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News