1. विविध

फूलों से प्रभावित हो रहा है आपका जीवन, जानिए क्या कहता है वास्तु शास्त्र

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार

घर-आंगन में फूलों का पौधा किसे प्यारा नहीं लगता. लोग तो बाजार से खरीदकर फूलों को गमलों में लगाते हैं. निसंदेह घर की सुंदरता और माहौल को फूल कई गुणा अधिक बढ़ा देते हैं. लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि वास्तु के हिसाब से फूलों को किस तरह रखा जाना चाहिए और किस तरह नहीं रखा जाना चाहिए. क्या गलत तरीके से रखे गए फूल, कोई नकारात्मक ऊर्जा को बढ़ावा देते हैं? चलिए आपको इस बारे में विस्तार से बताते हैं.  

घरों के मंदिर में फूल

आम तौर पर हर घर के मंदिर में  सुबह पूजा के वक्त फूल भगवान को चढ़ाए जाते हैं. पूजा के समय मंदिर में फूल चढ़ाना वास्तु के हिसाब से शुभ है, लेकिन इन चढ़े हुए फूलों को मुर्झाने के बाद मंदिर से हटाना भी जरूरी है. मुर्झाए हुए फूलों का घर में रहना बहुत गलत माना गया है. इससे कई तरह की नकारात्मक शक्तियां आकर्षित होती है.

सूखे फूलों को अलग करना जरूरी

घर आंगन में अगर सूखे फूल हैं, तो उसे हटाना जरूरी है. सूखे फूलों में निगेटिव चार्ज अधिक होता है, जो हमारी सोचने और समझने की शक्ति को प्रभावित करता है. सूखे फूल निराशा को दावत देते हैं.

फूलों को बेडरूम में न रखें

फूलों को बेडरूम की जगह ड्राइंगरूम में रखना अधिक फायदेमंद है. इससे घर में ऊर्जा का संचार होता है और माहौल ख़ुशनुमा बना रहता है.

छात्रों को पढ़ाई कक्ष में रखना चाहिए गेंदा

अगर आप छात्र हैं या किसी परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं, तो टेबल पर या आस-पास गेंदे का फूल रख सकते हैं. वास्तु के हिसाब से गेंदे का संबंध सीधे बृहस्पति ग्रह से है, जो हमारे ज्ञान और विद्या को प्रभावित करता है.

गुलाब से बढ़ेगा प्रेम वैवाहिक जीवन में अगर तनाव बढ़ रहा है, तो गुलाब का पौधा घर में लगा सकते हैं. वास्तु के हिसाब से इस फूल संबंध मंगल से है, जो सीधे प्रेम, विवाह और धन-संपत्ति को प्रभावित करता है.

English Summary: this is how vastu impact on your life by flowers in your home know more about flower and vastu shastra

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News