1. विविध

गांधी जयंती विशेष: जब महात्मा गांधी ने खुद को 'किसान' के रूप में पहचाना

स्वाति राव
स्वाति राव
Gandhi Jayanti

Gandhi Jayanti

स्वतंत्रता संग्राम में महात्मा गांधी के अमूल्य योगदान के लिए हर साल भारत में 2 अक्टूबर को गांधी जयंती मनाया जाता है. महात्मा गाँधी पेशे से वकील थे. उनकी सादगी लोगों को बहुत प्रभावित करती थी. 

महात्मा गाँधी  देश के किसान के लिए उद्दारक के सामान थे. किसान महात्मा गाँधी का बहुत सम्मान करते थे.गांधी ने 1922 के प्रसिद्ध राजद्रोह मुकदमे के दौरान अहमदाबाद की एक विशेष अदालत में खुद को पेशे से किसान और बुनकर बताया था. नवंबर 1929 में, उन्होंने अहमदाबाद में नवजीवन ट्रस्ट के लिए निम्नलिखित घोषणा जारी की. आज उन्हीं में से हम गाँधी जयंती के अवसर पर आपको गाँधी जी की कुछ अनसुनी बातों को बताने जा रहे हैं.

खेती में गांधी का पहला प्रवेश (Gandhi's first foray into agriculture)

दक्षिण अफ्रीका जाने तक गांधी का खेती से कोई लेना-देना नहीं था. उन्हें खेती या किसानों की कोई समझ नहीं थी, क्योंकि उनका जन्म रियासतों के वरिष्ठ अधिकारियों के परिवार में हुआ था. खेती में उनका पहला प्रयास दक्षिण अफ्रीका में हुआ. 1904 में एक शाकाहारी मित्र हेनरी पोलाक ने गांधी को जॉन रस्किन की पुस्तक अनटू दिस लास्ट से परिचित कराया. 

महत्मा गंधी देश के किसान के लिए उद्दारक के सामान थे. किसान महात्मा गाँधी का बहुत सम्मान करते थे.पुस्तक में, गांधी ने देखा कि "उनके कुछ अंतरतम विश्वास प्रतिबिंबित होते हैं." गांधी ने किताब से जो सबसे महत्वपूर्ण सबक सीखा, उनमें से एक यह था कि श्रम का जीवन, मिट्टी जोतने वाले और शिल्पकार का जीवन जीने योग्य होता है."

हालांकि, महादेव देसाई के अंग्रेजी अनुवाद में "किसान" शब्द शामिल नहीं है, गांधी के मूल गुजराती पाठ में "मिट्टी के जोतने वाले" के लिए खेडूत (एक किसान) शब्द का उल्लेख है - वही वाक्यांश जो उन्होंने दशकों बाद भंडारकर ओरिएंटल में आगंतुकों की पुस्तक में इस्तेमाल किया था.

भारतीय किसानों के साथ गांधी का जुड़ाव (Gandhi's association with farmers India)

हिंद स्वराज (1909) गांधी की पहली प्रमुख कृति थी, जिसने उनके विश्वदृष्टि और आधुनिक सभ्यता की आलोचना को पूरी तरह से व्यक्त किया. गांधी (पुस्तक में 'संपादक') ने अपने मूल गुजराती लेखन में 'द रीडर' को सूचित किया: "आपके दृष्टिकोण में, भारत का मतलब कुछ राजकुमारों से है.

मेरे लिए, इसका तात्पर्य उन लाखों किसानों से है जो इसके राजकुमारों और हमारे अपने अस्तित्व पर निर्भर हैं. ” उसी प्रतिक्रिया में,  उन्होंने पहले से ही सत्याग्रह का अभ्यास करने के लिए किसानों की प्रशंसा की. “किसान कभी नहीं रहे हैं और न ही कभी तलवार से जीते जाएंगे. 

वे नहीं जानते कि तलवार को कैसे संभालना है और दूसरों को एक का उपयोग करने से डरते नहीं हैं. किसानों और आम जनता ने आम तौर पर अपने और राज्य के हित में सत्याग्रह का इस्तेमाल किया है.

English Summary: gandhi Jayanti: two occasions when mahatma gandhi identified himself as a 'farmer'

Like this article?

Hey! I am स्वाति राव. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News