1. विविध

African Blackwood: इस पेड़ की 1 किलो लकड़ी की कीमत 7 लाख रुपए से भी ज्यादा, दुनिया की मूल्यवान सामग्रियों में है शामिल

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

हमारे देश में कृषि भूमि पर कई तरह के वृक्ष उगाए जाते हैं. इन वृक्षों की लकड़ियों को कई प्रकार से उपयोग में लाया जाता है. इनकी कीमत भी गुणवत्ता के आधार पर निर्भर होती है, लेकिन कुछ वृक्षों की लकड़ियों की कीमत अविश्वसनीय होती है. आमतौर पर चंदन की लकड़कियों को सबसे महंगा कहा जाता है. इनकी कीमत 5 से 6 हजार रुपए प्रति किलो तक होती है. मगर आज हम आपको एक हैरान कर देने वाली जानकारी देने वाले हैं.

दरअसल, दुनिया में एक ऐसी लकड़ी भी पाई जाती है, जिसकी कीमत चंदन की लकड़ी से भी कई गुना ज्यादा है. इस लकड़ी को खरीदने से पहले अमीर आदमी भी सोचने पर मजबूर हो जाएगा. इस लकड़ी का नाम अफ्रीकी ब्लैकवुड है.

क्या है अफ्रीकी ब्लैकवुड

इस लकड़ी को धरती पर मौजूद सबसे मूल्यवान सामग्रियों में से एक माना जाता है. अगर इसकी कीमत की बात की जाए, तो एक किलोग्राम की कीमत 8 हजार पाउंड यानी 7 लाख रुपए से भी अधिक होती है. इस लकड़ी की कीमत से आप एक अच्छी खासी लग्जरी कार आसानी से खरीद सकते हैं.

खबर भी पढ़ें: PM Kisan Yojana: इस महीने से आएगी पीएम किसान योजना की छठी किश्त, करोड़ों किसानों को मिलेगा लाभ

अफ्रीकी ब्लैकवुड की खासियत

इसको अन्य पेड़ों की तुलना में कम पाया जाता है. इनकी ऊंचाई करीब 25 से 40 फीट की होती है, जो कि मध्य और दक्षिणी अफ्रीका के करीब 26 देशों में पाए जाते हैं. यह सूखे इलाकों में ज्यादा मिलते हैं. इस पेड़ को तैयार करने में करीब 60 साल का समय लग जाता है. इस लकड़ी की अवैध तस्करी भी ज्यादा की जाती है, जिस कारण इन्हें काट दिया जाता है.

अफ्रीकी ब्लैकवुड का उपयोग

इस लकड़ी का ज्यादातर उपयोग शहनाई, बांसुरी और गिटार जैसे संगीत वाद्ययंत्र बनाने के लिए किया जाता है. इसके साथ ही मजबूत और टिकाऊ फर्नीचर भी बनाए जाते हैं. यह काफी महंगी होती है, इसलिए आम आदमी के लिए इस लकड़ी को खरीदना काफी मुशकिल होता है.

खबर भी पढ़ें: महिंद्रा स्वराज 963 एफई ट्रैक्टर के मालिक बने महेंद्र सिंह धोनी, जानिए इस ट्रैक्टर की खासियत

English Summary: African blackwood costs more than Rs 7 lakh

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News