News

सेना में नौकरी की चाह रखने वालों के लिए चौंकाने वाली खबर

संघ लोक सेवा आयोग(UPSC) ने एसएसबी बोर्ड (SSB)के साथ मिलकर 1 नया कदम उठाया है. यूपीएससी ने एसएसबी(SSB) इंटरव्यू में फेल होने वाले उम्मीदवारों के नंबर सार्वजनिक किए हैं. एक नोटिफिकेशन के जरिए यूपीएससी ने उन कैंडिडेट्स के स्कोर कार्ड साझा किए हैं, जिन्होंने सीडीएस(CDS)-1 2018 के एसएसबी(SSB) इंटरव्यू में भाग लिया था। लेकिन वो पास नहीं हो पाए. इन  स्कोर कार्ड में केवल उन उम्मीदवारों के नाम है जो चाहते थे कि उनके मार्क्स सार्वजनिक किए जाएं.

हालांकि यूपीएससी ने साफ किया कि ये फैसला भारत सरकार के कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग  के निर्णय को ध्यान में रखते हुए लिया गया है . जिससे अन्य संस्थान रोजगार के लिए योग्य उम्मीदवारों की पहचान सके.”  

भारतीय सैन्य, नौसेना  और वायु सेना अकादमी में प्रवेश के लिए संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा(CDS) 2018 का रिजल्ट 9नवंबर को घोषित हुआ था. साथ ही ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी(OTA) में प्रवेश के लिए  इसी साल 1 फरवरी को परिणाम की घोषणा की गई थी.  सेना में शामिल होने  का सपना रखने वालों को बता दें कि ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी और भारतीय सैन्य, नौसेना  व वायु सेना अकादमी में प्रवेश के लिए अलग-अलग मापदंड है.

आपको बता दे भारतीय सेना(आर्मी, नेवी, एयरफोर्स) में शामिल होने की चाह रखने वालों के लिए यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा(PRE-EXAMINATION) का आयोजन कराता है. जिसमें पास होने के बाद कैंडिडेट्स को एसएसबी(SSB) इंटरव्यू से गुजरना होता है. इस इंटरव्यू का आयोजन सेना के एसएसबी(SSB) बोर्ड द्वारा किया जाता है.

ऑफिसर्स ट्रेनिंग एकेडमी(OTA) के लिए होने वाले एसएसबी इंटरव्यू में 200 अंकों में से नंबर दिए जाते हैं जबकि यूपीएससी द्वारा आयोजित की जाने वाली प्रारंभिक परीक्षा(PRE-EXAMINATION) भी अधिकतम 200 अंको की होती है.  

वहीं दूसरी ओर भारतीय सैन्य(IMA), नौसेना(NA)  और वायु सेना अकादमी(AFA) के लिए होने वाले एसएसबी इंटरव्यू में 300 अंकों में से नंबर दिए जाते हैं. जबकि इस इंटरव्यू से पहले होने वाली प्रारंभिक परीक्षा (PRE-EXAMINATION) 300 अंको की होती है.  

यूपीएससी द्वारा संयुक्त रक्षा सेवा परीक्षा-2018 के अयोग्य उम्मीदवारों की उपरोक्त जानकारी साझा करने के अलावा आयोग का कहना है कि उम्मीदवारों से संबंधित उपरोक्त जानकारी, अन्य निजी या सार्वजनिक संगठन द्वारा किस प्रकार उपयोग की जाएंगी इसके लिए आयोग कोई जिम्मेदारी नहीं लेता.



Share your comments