1. ख़बरें

महिलाओं के लिए सरकारी बैंक में चल रहीं ये विशेष योजना

लॉकडाउन की वजह से लोगों की आर्थिक स्थिति बहुत खराब हो गई है. ज्यादातर नौकरीपेशा लोगों की नौकरियां चली गई है. ऐसे में अब सरकार प्राइवेट सेक्टर और उद्यमियों दोनों को वित्तीय सहायता देकर देश की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने का काम कर रही है. इसी क्रम में देश की महिलाओं को आगे बढ़ाने के लिए एक योजना की पहल की गई है जिसका नाम सेंट कल्याणी योजना रखा गया है. इस योजना के पीछे मुख्य उद्देश्य महिलाओं को व्यवसाय करने हेतु सहायता करना और उन्हें आत्मनिर्भर बनाना है.

बता दें, कि सेंट कल्याणी योजना सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की ये स्कीलम है. इसमें मैन्युफैक्चरिंग और सर्विस इंडस्ट्री में माइक्रो और स्मॉल-स्केल बिजनेस करने वाली महिलाओं को इससे फायदा मिलता है. इसमें हैंडीक्राफ्ट मेकर्स, टेलर्स, डॉक्टर्स, ब्यूटी पार्लर, गारमेंट मेकिंग, ट्रांसपोर्ट बिजनेस आदि शामिल हैं.

ये खबर भी पढ़े: SBI Agri Gold Loan Scheme: जानिए किसान कैसे उठा सकते हैं SBI एग्री गोल्ड लोन स्कीम का फायदा

क्या है ये सेंट कल्याणी योजना? (What Is Cent Kalyani Scheme?)

यह योजना सेंट्रल बैंक ऑफ इंडिया की लोन योजना है. इस योजना के अंतर्गत सेंट्रल बैंक द्वारा महिलाओं को लोन की डीएचएस (DHS) योजना का लाभ दिया जाता है. इसकी मदद से महिला अपनी कार्यशील पूंजी, क्रय मशीनरी या फिर उपकरण व अन्य प्रासंगिक व्यावसायिक जरूरतों के लिए आसानी से आवेदन कर सकती है.

क्या है इस योजना की ब्याज दर ?

इस योजना में महिला उद्यमी (Women Entreprenur) को 1 करोड़ रुपए तक लोन दिया जाता है. इसकी ब्याज दर (Interest Rate) 9.70 फीसद है.

क्या है इस योजना के फायदे?

इस योजना द्वारा महिलाओं को मैन्युफैक्चरिंग व सर्विस इंडस्ट्री (Service Industry) में बड़े स्तर व छोटे स्तर पर बिजनेस के लिए लोन दिया जाता है. इसमें हैंडीक्राफ्ट मेकर्स, ट्रांसपोर्ट बिजनेस, टेलर्स, गारमेंट मेकिंग, ब्यूटी पार्लर आदि व्यवसाय शामिल किए गए हैं.

English Summary: This special scheme for women is being run in a government bank

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News