1. ख़बरें

आत्मनिर्भर भारत की तर्ज पर लकड़ी से बना दिया साइकिल, देशभर में मची धूम

सिप्पू कुमार
सिप्पू कुमार
cycle

कोरोना वायरस के कारण लाखों लोगों का रोजगार चला गया है, सबकुछ बंद होने की वजह से लोगों को अपने घरों में रहना पड़ रहा है. अब कई लोग इस संकट के समय में सरकार को कोसने का काम कर रहे हैं, तो कुछ खुद नए अवसरों को जन्म दे रहे हैं. पंजाब के रहने वाले धनीराम भी उन्हीं में से एक हैं, जो इस आपदा को अवसर बनाए हुए हैं. चलिए आज हम आपको उनके बारे में बताते हैं.

धनीराम को साइकिल का बड़ा शौक रहा है, हर दिन समय निकाल कर कुछ वक्त के लिए साइकिल जरूर चलाते हैं. वैसे उनको साइकिल चलाता देखना लोगों के लिए कुछ नया नहीं है, लेकिन फिर भी इन दिनों वो आकर्षण के केंद्र बने हुए हैं. ऐसा इसलिए है, क्योंकि आज कल वो टीक वुड से बनी साइकिल  चला रहे हैं.

इस साइकिल को धनीराम ने खुद बनाया है और इसे बनाने में उन्हें कुछ 15 हजार रुपये का खर्च आया है. धनीराम बताते हैं कि साइकिल पर कुछ नए तरह का एक्सपेरिमेंट वो हमेशा से करना चाहते थे, लेकिन एक समय तक पैसो की समस्या रही और उसके बाद वक्त की कमी. अब लॉकडाउन के समय क्योंकि उनके पास वक्त ही वक्त था, इसलिए वो इसे बना सके.

wooden

पूरे देश से मिल रही है प्रशंसा

धनीराम को इस साइकिल ने पूरे देश में एक नई पहचान दी है, लोग देश के अलग-अलग राज्यों से फोन कर इस साइकिल के बारे में जान रहे है. आय दिन मीडिया वालो का जमावड़ा लगा रहता है. यह पूछने पर कि साइकिल को किस तरह तैयार किया गया, धनीराम बताते है कि पहले पेपर पर कई तरह के डिजाइन तैयार किए गए.  

रोजगार की संभावना

धनीराम से कई साइकिल कंपनियों ने संपर्क किया है, कुछ कंपनियां उनके डिजाइन से बहुत प्रभावित भी है और वो उनके साथ काम भी करना चाहती है. इसी तरह बहुत से लोग लकड़ी की साइकिल बनाने का उन्हें अलग-अलग आइडिया भी दे रहे हैं. धनीराम लकड़ी के साथ प्लाइवुड जैसी चीजें भी साइकिल बनाने के लिए उपयोग करने का सोच रहे हैं. वहीं पुरानी साइकिलों रे पुर्जों पर भी काम हो रहा है.

बढ़ सकती है साइकिल की मांग

मार्केट विशेषज्ञों के मुताबिक लॉकडाउन में लोगों का वजन बढ़ा है, जिस कारण साइकिल की मांग बढ़ने वाली है. आने वाले समय में जिम के लिए हर किसी पास समय नहीं है, लेकिन साइकिल के उपयोग से वो यातायात के साथ-साथ अपना सेहत भी सुधार सकते हैं.

ये ख़बर भी पढ़े: सरकार की अनोखी पहलः 80 रूपए में मिलेगा मछली भात, घर बैठे भी दे सकते हैं ऑर्डर

English Summary: this man make cycle with the help of wood get good response from company as well

Like this article?

Hey! I am सिप्पू कुमार. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News