1. ख़बरें

खेती का जुगाड़: डीजल के दाम बढ़े, तो युवा किसान ने LPG से चलाया पम्पिंग सेट

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

उत्तर प्रदेश के शिवराजपुर के नधिया बुजुर्ग गांव के युवा किसान ने एक मिसाल कयाम की है. कहा जाता है कि आवश्यकता विज्ञान की जननी है. इसी कहावत को 28 वर्षीय एक युवा किसान ने सच कर दिखाया है. दरअसल, जब डीजल के दाम आसमान छूने लगे, तो युवा किसान ने एलपीजी से पम्पिंग सेट चला दिया.

10वीं पास है युवा किसान

युवा किसान का नाम सोनू तिवारी है, जो कि नधिया बुजुर्ग गांव में रहते हैं. उन्होंने 10वीं तक ही पढ़ाई की है. पिता का देहांत होने के बाद परिवार की जिम्मेदारी ऊपर आ गई. इसके बाद मात्र 2 एकड़ खेती ही परिवार की आमदनी का साधन बन गई है.

एलपीजी से चलाया इंजन

आज के समय में डीजल के दाम लगातार बढ़ते जा रहे हैं. इससे फसलों की सिंचाई में कई परेशानियों का सामना करना पड़ता था. ऐस में युवा किसान के मन में कुछ नया करने का विचार आया कि जब पेट्रोल, डीजल और सीएनजी से इंजन चल सकते हैं, तो एलपीजी से क्यों नहीं. बस इसके बाद युवा किसान एलपीजी को लेकर खेत में पहुंच गए और इंजन स्टार्टकर मन में आए विचार को मूर्तरूप देने में जुट गया. लगभग 1 घंटे की मशक्कत के बाद आखिरकार कामयाबी मिल ही गई. युवा किसान ने बिना किसी दिक्कत के एलपीजी से इंजन चला दिया. यहां तक इससे धुंआ भी नहीं निकल रहा था.

युवा किसान का कहना है कि इससे पहले इंजन को चालू करने के लिए डीजल का उपयोग किया जाता है. मगर अब ईयर क्लींजर में एलपीजी की नली को उसके अंदर नेजूल से फिक्स कर दिया जाता है. इससे लगातार इंजन चलता रहता है. रेगुलेटर की सहायता से गैस आपूर्ति कम और ज्यादा भी कर सकते हैं.

कम लागत में 35 घंटे चल सकता है इंजन

आपको बता दें कि एलपीजी के दाम मात्र 609 रुपए है. इसमें 14 किलो 200 ग्राम गैस होती है. किसान का कहना है कि एक सिलेंडर से 35 घंटे इंजन चलाकर सिंचाई की जा सकती है. इसमें 17 रुपए 50 पैसे की लागत आ जाती है, जबकि इंजन डीजल से चलाने पर 75 प्रति घंटे की लागत आती है. इस तरह किसान अपने समय और लागत, दोनों की बचत कर सकते हैं.

ये खबर भी पढ़े: कंबाइन हार्वेस्टर मशीन जैसे कृषि यंत्रों से करें धान की कटाई, लागत और समय की होगी बचत

English Summary: The young farmer operated the pumping set with LPG

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News