1. ख़बरें

Seed License: सरकार ने बीज डीलरों के लाइसेंस की समय-सीमा बढ़ाई, इस महीने तक रहेगा मान्य

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Seed

केंद्र सरकार ने बीज डीलरों (Seed Dealers) को राहत देने के लिए एक बड़ी राहत दी है, जिससे बीज डीलरों औऱ किसानों को बड़ी राहत मिलेगी. दरअसल, केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय (Agriculture Ministry) ने  डीलरों के लाइसेंस की समय-सीमा को बढ़ा दिया गया है. यह समय-सीमा सितंबर तक के लिए बढ़ा दी गई है. बीज डीलरों के लिए सरकार का यह फैसला काफी अहम माना जा रहा है. बता दें कि किसानों को फसल की बुवाई के लिए बीजों की कमी न पड़े, इसलिए बीज डीलरों के लाइसेंस (Seed license) के रिन्यूअल को राहत दी गई है. इसका असर किसानों और बीज विक्रेताओं पर पड़ेगा.

आवश्यक है बीज लाइसेंस

अगर किसान बीज बेचते हैं, तो इसके लिए कृषि विभाग द्वारा बीज लाइसेंस (Seed License) जारी किया जाता है. इसके लिए एक तय फीस जमा करनी होती है. इसके बाद लगभग 1 महीने में लाइसेंस बनकर तैयार हो जाता है. इसके जारी होने के बाद दुकानदार बीजों की बिक्री कर सकता है.

ये खबर भी पढ़े: उर्वरक असली है या नकली, किसान ऐसे करें पहचान

khad

कितने साल के जारी होता है लाइसेंस

बीज लाइसेंस 3 साल के लिए जारी किया जाता है. इसके बाद बीज विक्रेताओं को अपना लाइसेंस रिन्यू (Seed License Renewal) करवाना पड़ता है. इसके लिए भी एक तय फीस जमा करनी पड़ती है.

जानकारी के लिए बता दें कि सरकार बीजों को लेकर समय-समय पर जागरुकता अभियान चलाती है. इसके तहत किसानों को सलाह दी जाती है कि कृषि विभाग द्वारा जारी लाइसेंसधारी दुकान से ही बीज खरीदें. इसके साथ ही हमेशा बीज कृषि वैज्ञानिक से खरीदें. इसके अलावा बीज खरीदते समय दुकानदार से पक्की रसीद जरूर लें. बीज के पैकेट को अच्छी तरह से देख लें. इसके पैकेजिंग डेट भी जांच देख लें कि बीज की एक्सपायरी डेट तो नहीं आ गई है. अगर  बीज की गुणवत्ता खराब लगती है, तो तुरंत कृषि अधिकारी से संपर्क करना चाहिए.

ये खबर भी पढ़े: खुशखबरी ! HDFC Bank ने लॉन्च किया Shaurya KGC Card, खरीद पाएंगे फार्म मशीनरी, बीज और खाद

English Summary: The government has extended the deadline for the license of seed dealers by September

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News