News

किसानों का होगा फ्री में इलाज, जानिए कैसे

indian Agricultural Research Institute

किसान हित में केंद्र व राज्य सरकार के अलावा बहुत सारी संस्थानएं ऐसी है जो अच्छी पहल करती रहती है. इसी क्रम में 1 से 3 मार्च,2020 तक चलने वाले पूसा कृषि मेला में भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान की ओर से किसानों के लिए मुफ्त स्वास्थ्य शिवर का आयोजन किया गया है. इस स्वास्थ्य शिवर में किसानों के आँख, ब्लड प्रेशर और शुगर समेत अन्य कई तरह की समस्याओं का इलाज किया जाएगा. मेले में स्वास्थ्य शिवर के अलावा किसानों के लिए और भी कई तरह की सुविधाएं मुहैया कराई जाएगी.

बता दे कि हर साल की भांति इस साल भी भारतीय कृषि अनुसंधान संस्थान की ओर से पूसा कृषि मेला आयोजित किया जा रहा है. यह मेला 1 से शुरू होकर 3 मार्च तक चलेगा जिसमें किसानों को आईएआरआई की ओर से विकसित रबी, खरीफ और जायद की विकसित उन्नत क़िस्मों के बारें में बताया जाएगा. इस मेले में किसानों को बीजों के बारे में जानकारी मुहैया करने के अलावा खरीदने पर तुरंत बीज भी मुहैया कराया जाएगा. मेले में किसानों अपने- अपने उत्पादों की प्रदर्शनी भी करेंगे. इसके अलावा किसान गोष्ठी का भी आयोजन किया जाएगा.

Free treatment of farmers

आईएआरआई की ओर से विकसित उन्नत क़िस्मों की बारें में बात करें तो इस बार आईएआरआई की ओर से से बेहतर पोषण और अधिक उपज एवं आय के लिए फसलों की 34 नई प्रजातियाँ विकसित की गई है जिसमें गेहूं (9), मक्का (4), चना (2), एवं मूंग, मसूर तथा सोयाबीन की एक-एक प्रजाति; सब्जियों की 11 किस्में; फलों की चार(4) नई किस्में (आम की दो, प्यूमेलो और अंगूर में एक-एक) तथा फूलों की एक (ग्लेडियोलस) प्रजाति शामिल है. 



English Summary: pusha krishi mela: Indian Agricultural Research Institute will treat farmers for free, know how

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in