1. ख़बरें

राज्य सरकार ने लागू किया प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना, फ्री में मिलेगा राशन

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा

जानलेवा कोरोना महामारी की वजह से हुए इस लॉक डाउन ने लोगों को घरों में रहने को मजबूर कर दिया है. कई लोग तो इस क्वारंटाइन का मजा ले रहे है अच्छा-अच्छा खाना बना कर खा रहे है तो कहीं कुछ लोगों को एक वक्त का खाना तक नसीब नहीं हो रहा. नौकरीपेशा लोग तो फिर भी 'वर्क फ्रॉम होम' करके काम कर रहे है. ऐसे में प्रतिदिन कमाई करने वाला गरीब व्यक्ति खाली बैठा है अब वे अपनी जीविका के लिए सरकार पर निर्भर बैठा है. इस समय लाखों लोग  इंतजार कर रहे है कि कब खाना आए और कब उनका पेट भरे.

इस समस्या को देखते हुए अब दिल्ली में भी प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना (PMGKAY) लागू की जाएगी. जिसके तहत गरीबों को 3 महीने तक अतिरिक्त राशन प्रदान किया जाएगा. जिसमें प्रति व्यक्ति को 3 महीने तक चार किलो गेहूं व 1 किलो चावल मिलेगा. सरकार ने इस पर मंगलवार को आदेश जारी कर दिए है कि दिल्ली के राशन कार्ड धारक (Ration Card Holders) को प्रधानमंत्री गरीब गरीब कल्याण अन्न योजना के अंतर्गत 5 किलो अनाज प्रति व्यक्ति प्रति महीने दिया जाएगा.यह अन्न योजना अप्रैल, मई और जून महीने तक चलेगी. इसमें 4 किलो गेहूं और 1 किलो चावल दिया जाएगा.इस योजना के तहत जल्द ही राशन बांटने का काम शुरू किया जाएगा. इसके अलावा लोगों को 1 किलो दाल भी अलग से दी जाएगी.

कोटाधारकों को देना होगा रोजाना राशन का हिसाब

इसके साथ दिल्ली सरकार ने यह भी आदेश दिए है कि कोटाधारकों को रोजाना सरकार को राशन का हिसाब देना होगा. उनको अपनी दुकान से लिंक कुल राशन कार्ड की जानकारी और जिस दिन से राशन बांटना शुरू किया उस दिन तक के राशन स्टॉक की उपलब्धता की जानकारी भी देनी होगी. इसके अलावा  लाभार्थियों, बांटे गए खाद्यान्न और क्लोजिंग स्टॉक की जानकारी भरकर विभाग की वेबसाइट पर अपलोड करनी होगी.

English Summary: Pradhanmantri gareeb kalyan Ann yojna:Now this scheme started in this state will also get 4 kg wheat and 1 kg rice per person for 3 months

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News