आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

Poultry Industry: पोल्ट्री इंडस्ट्री को राहत, मांस-मछली और अंडे की होगी खुली ब्रिकी

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

Poultry Farming

देशभर में कोरोना वायरस का खतरा मंडरा रहा है. इसके चलते पीएम मोदी ने 21 दिनों का लॉकडाउन भी घोषित किया है. इस बीच आपने कई बार सुना होगा कि कोरोना वायरस से बचना है, तो इन दिनों मांस-मछली का सेवन न करें. ऐसे में पोल्ट्री इंडस्ट्री को काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है. कहीं मांस-मछली एकदम बिकना बंद हो गया है, तो कहीं बहुत सस्ते दामों में मांस-मछली बिक रहा है. इससे पोल्ट्री इंडस्ट्री की परेशानियां काफी बढ़ गई हैं. इस बीच हरियाणा सरकार ने एक अहम फैसला किया है, जिससे पोल्ट्री इंडस्ट्री को काफी राहत मिली हैं.   

हरियाणा सरकार का बड़ा फैसला (Haryana government's big decision)

दरअसल, हरियाणा सरकार ने पोल्ट्री इंडस्ट्री को राहत पहुंचाने के लिए एक बड़ा कदम उठाया है. बता दें कि अब राज्य में अंडे, मीट, मांस और मछली की बिक्री को मंजूरी मिल गई है. सरकार का फैसला है कि मांस, मछली, मीट और अंडा  प्रोटीन का सबसे अच्छा और सस्ता साधन है, इसलिए अब लॉकडाउन में पोल्ट्री से जुड़ा व्यवसाय को चालने की मंजूरी मिल गई है.

आपको बता दें कि हरियाणा सरकार पहले ही मुर्गियों के दाने के लिए बाजरा और मक्के का इंतजाम कर चुकी है. इससे पोल्ट्री इंडस्ट्री से जुड़े संचालकों को काफी राहत मिली है. बता दें कि हरियाणा सरकार ने बहुत सस्ती दरों पर मुर्गियों को दाना उपलब्ध कराया है.

मांस मछली प्रोटीन का साधन

हरियाणा सरकार द्वारा संबंधित विभागों को एक पत्र जारी किया गया है. इस पत्र के जरिए बताया गया है कि अंडा, मांस, मछली और मीट प्रोटीन का सबसे अच्छा और सस्ता साधन है.

भारत सरकार द्वारा कराई जांच में भी साफ हो चुका है कि कोरोना वायरस का फैलाव पोल्ट्री उत्पादों से नहीं होता है. इसके बाद केंद्र और राज्य सरकारों ने पोल्ट्री उत्पादों पर लगा प्रतिबंध हटाने को कहा है. आपको बता दें कि हरियाणा सरकार के साथ-साथ कई अन्य राज्यों ने भी मांस-मछली की दुकान खोलने की मंजूरी दे दी है.

English Summary: poultry industry can be meat-fish and egg can open sale

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News