MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

IIAASD और OFPAI कर रहा किसानों के लिए राष्टीय स्तर पर कार्यक्रम का आयोजन, जैविक खेती की मिलेगी ट्रैनिंग

IIAASD (इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस एग्रीकल्चर स्किल डेवलपमेंट) और OFPAI (ऑर्गेनिक फार्मर्स प्रोड्यूसर एसोसिएशन ऑफ इंडिया) किसानों के लिए 2 दिवसीय राष्ट्रीय स्तर के किसान सम्मेलन का आयोजना करने जा रहा है..

लोकेश निरवाल
2 दिवसीय राष्ट्रीय स्तर का कार्यक्रम
2 दिवसीय राष्ट्रीय स्तर का कार्यक्रम

IIAASD (इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस एग्रीकल्चर स्किल डेवलपमेंट) OFPAI (ऑर्गेनिक फार्मर्स प्रोड्यूसर एसोसिएशन ऑफ इंडिया) के सहयोग से औषधीय फसलों की व्यावसायिक खेती और जैविक खेती पर 2 दिवसीय राष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम का आयोजन सुरभि सदन पिंजरापोल गौशाला, टोंक रोड, सांगानेर, जयपुर में किया जा रहा है.

यह  IIAASD के रूप में किसानों, छात्रों और शोधकर्ताओं को उनके भविष्य को उज्जवल बनाने के लिए विभिन्न प्रकार के ज्ञान मंच प्रदान करते हैं. इस आयोजन के द्वारा कृषि क्षेत्र में सम्मानजनक काम करने वाले प्रगतिशील किसानों का एक छोटा सा सम्मान कार्यक्रम करने की योजना बनाई गई है और साथ ही उनके काम के बारे में अध्ययन करने के लिए कृषि समाज में उनके योगदान के विस्तार में उनकी मदद करना चाहते हैं.

दो दिन तक चलेगा कार्यक्रम (Program will run for two days)

यह 2 दिवसीय राष्ट्रीय स्तर के किसान सम्मेलन 2 दिन यानी 20 अगस्त से लेकर 21 अगस्त 2022 तक लगातार चलने वाला है. इस कार्यक्रम के दौरान डॉ अतुल गुप्ता, डॉ सुधांशु, डॉ रूहांगिज हयाती दहिया, प्रशांत चतुर्वेदी, डॉ अजय कुमार गौतम, अमोल खंडारे शामिल होंगे. इसके अलावा इस आयोजन में सभी कृषि स्टार्ट अप के पद्मश्री पुरस्कारी, राजस्थान के कृषि विश्वविद्यालय एफपीओ और गैर सरकारी संगठन के किसान वैज्ञानिक, उद्यमी, उद्योगपति, सरकारी संगठन, आईसीएआर इकाइयां एनआईएएम इकाई और बीएससी और एमएससी के छात्र भाग लेंगे और जिन किसानों ने कृषि के क्षेत्र में विशेष कार्य किया है. उन्हें 51 पुरस्कार दिए जाएंगे. बता दें कि इन दो दिनों तक विभिन्न मुद्दों पर ध्यान दिया जाएगा. जो कुछ इस प्रकार से है.

इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस एग्रीकल्चर स्किल डेवलपमेंट
इंटरनेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ एडवांस एग्रीकल्चर स्किल डेवलपमेंट

कार्यक्रम के पहले दिन (first day of program)

  •          अभिविन्यास और परिचय

  •          जैविक खेती का परिचय और उसका महत्व

  •          जैविक खाद, खाद और कीटनाशक

  •          भूमि की तैयारी, मिट्टी और जल परीक्षण

  •          जैविक प्रमाणन प्रबंधन प्रणाली

  •          औषधीय फसल की खेती का दायरा और महत्व

  •          महत्वपूर्ण औषधीय फसलें (सफ़ेद मूसली, मोरिंगा, स्टीविया, शतावरी, काली हल्दी, चिया, एलोवेरा, लेमन ग्रास, ब्राह्मी, आर्टेमिसिया, अश्वगंधा, आंवला, अकरकरा आदि)

  •          औषधीय फसलों में पादप संगठन

कार्यक्रम के दूसरे दिन (second day of program)

  •          बायबैक अनुबंध खेती

  •          बायबैक समझौते के नियमों और शर्तों पर चर्चा

  •          विपणन, प्रसंस्करण और संबद्ध गतिविधियां

  •          150 एकड़ के जैविक हर्बल पार्क का क्षेत्र प्रदर्शन

  •          औषधीय पौधों की खेती के लिए सब्सिडी

  •          थर्ड पार्टी मैन्युफैक्चरिंग

  •          खाद्य उद्योग और जैविक खेती

  •          कच्चे माल का प्रसंस्करण

  •          कृषि विकृति

  •          प्रमाणपत्र वितरण और प्रतिक्रिया

रजिस्ट्रेशन कराना होगा अनिवार्य (Registration will be mandatory)

इस कार्यक्रम में शामिल होने के लिए आपको सबसे पहले रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. इसके लिए आपको IIAASD की आधिकारी वेबसाइट www.iiaasd.com/register/courses.php पर जाना होगा. रजिस्ट्रेशन के लिए आपको 6 हजार रुपए का शुल्क देना होगा. इसमें उन्हें दो दिनों तक Lunch और BreakFast भी दिया गया है. इसके अलावा Training Manual  मैं हूं किसान (Main Hu kisan)  राष्ट्रीय स्तर की कृषि आधारित पत्रिका की 1 वर्ष की निःशुल्क सदस्यता भी दी जाएगी.

English Summary: National level farmer program organized on commercial cultivation of medicinal crops and organic farming Published on: 05 August 2022, 04:58 PM IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News