MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

मशरूम भी इंसानों की तरह कर रहे हैं बात, लोग हो रहे हैरान

वैज्ञानिकों के मुताबिक मशरूम भी मनुष्य की तरह आपस में बात करता नजर आया है. ---

लोकेश निरवाल

ये बात तो आप सब लोग जानते हैं, कि पेड़-पौधों सजीव होते हैं. इनका जीवन काल भी मनुष्य की तरह ही होता है. जिस तरह से हम आपस में बात करते हैं, ठीक उसी प्रकार से पेड़-पौधे भी बात करते हैं. आज हम आपको ऐसी ही एक चौंकाने वाली घटना के बारे में बताने जा रहे हैं जिसका दावा वैज्ञानिकों ने किया है. वैज्ञानिकों के मुताबिक मशरूम भी मनुष्य की तरह आपस में बात करता नजर आया है.

मशरूम के 6 अक्षर होते हैं (Mushroom has 6 letters)

आपको बता दें कि यूनिवर्सिटी ऑफ इंग्लैंड (University of England) के प्रोफेसर एंड्रयू एडमैट्ज्की ने अपनी एक रिसर्च में बताया है कि, मशरूम भी ठीक इंसानों की तरह एक दूसरे से बात करते हैं. इनकी भी अपनी खुद की एक डिक्शनरी है जिसमें लगभग 50 शब्द होते हैं. इसके अलावा उन्होंने यह भी बताया कि इन मशरूम के हर एक शब्द की लंबाई करीब 6 अक्षरों की होती है. साथ ही मशरूम में दिमाग और चेतना दोनों पाए गए हैं. इनमें भी इलेक्ट्रिकल इंपल्स (electrical impulses) पाए जाते हैं. अब आप सोच रहे होंगे कि ये इलेक्ट्रिकल इंपल्स क्या होता है. इलेक्ट्रिकल इंपल्स मतलब कि बिजली की तरंगों (lightning waves) के द्वारा एक दूसरे से बाते करने में सक्षम होते हैं. जिस तरह से इंसान इसकी मदद से बात कर पाते हैं ठीक उसी तरह मशरूम भी इसका इस्तेमाल एक दूसरे के सुख-दुख के बारे में बात करने के लिए करता है.  

इलेक्ट्रिक एक्टिविटी की तरह करते हैं बात

मशरूम के विषय में बात करते हुए प्रोफेसर एंड्रयू एडमैट्ज्की ने यह भी बताया कि मशरूम एक दुसरे को मौसम और भविष्य में आने वाले खतरे के बारे में जानकारी पहले ही दे देते हैं. हालांकि वहीं कुछ वैज्ञानिकों का मानना है कि मशरूम के बात करने के तरीकों में अभी और भी अधिक रिसर्च करने की जरूरत है. इसलिए इलेक्ट्रिक एक्टिविटी के बारे में कुछ अधिक कहना अभी सही नहीं होगा.

ये भी पढ़े : मशरूम के मुख्य रोग और उनके रोकथाम

मशरूम की चार प्रजाति पर हुई रिसर्च (Research done on four species of mushroom)

वैज्ञानिकों के मुताबिक, मशरूम के बात करने के एक शब्द में लगभग 6 अक्षर होते हैं, इस बात की रिसर्च वैज्ञानिक ने मशरूम की चार प्रजातियों (four species of mushroom) पर किया था. जो कुछ इस प्रकार से है...

नोकी, स्प्लिट गिल, घोस्ट और कैटरपिलर पर की गई थी. मशरूम की बाकी और भी प्रजातियों पर रिसर्च जारी है. इनसे जुड़ी बातों को जानने के लिए वैज्ञानिक अपनी हर एक कोशिश में लगे हुए है.

English Summary: Mushrooms also talk like humans, they have so many characters to talk Published on: 08 April 2022, 04:19 PM IST

Like this article?

Hey! I am लोकेश निरवाल . Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News