आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

Government Scheme: किसानों को खेतीबाड़ी के लिए मिली 62 हजार करोड़ रुपए की मदद, जानिए क्या है योजना

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

किसानों को खेतीबाड़ी में कोई समस्या न हो, इसलिए केंद्र सरकार उनका पूरा सहयोग करती है. बता दें कि देश के अन्नदाता को उच्च स्तर पर रखा जाता है. ऐसे में उनको खेतीबाड़ी में कोई समस्या न आए, इसलिए मोदी सरकार (Modi government) ने किसानों (Farmers) के लिए प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना (Pradhan Mantri Kisan Samman Nidhi Scheme) को चलाया है. इस योजना के तहत किसानों के खाते में सीधे 2-2 हजार की रुपए की राशि भेजी जाती है.

अब तक करोड़ों रुपए की सहायता

मोदी सरकार की पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत अब तक 62 हजार करोड़ रुपए से ज्यादा की मदद की जा चुकी है. सभी जानते हैं कि इस वक्त देश पर कोरोना वायरस (Coronavirus) का संकट मंडरा रहा है. ऐसे में देश में 21 दिन का लॉकडाउन लगाया गया है. इस दौरान सरकार ने किसानों के खाते में 2-2 हजार रुपए भेजे हैं. बता दें कि इस योजना के तहत सरकार द्वारा 4.91 करोड़ रुपए भेजे जा चुके हैं.

लॉकडाउन में इतने परिवारों को मिलेगी मदद

केंद्रीय कृषि मंत्रालय की मानें, तो देश में पीएम किसान सम्मान निधि योजना के तहत में लगभग 9 करोड़ किसान रजिस्टर्ड हो चुके हैं. कोरोना की वजह से लॉकडाउन के दौरान इतने परिवारों की मदद की जाएगी. इसके लिए सरकार ने  लगभग 18 हजार करोड़ रुपए की राशि रखी है. बता दें कि देश में लगभग 14.5 करोड़ किसान हैं, लेकिन इस योजना से कई किसान नहीं जुड़ पाए हैं.  

इतने करोड़ रुपए हुए ट्रांसफर

केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी द्वारा बताया गया है कि लॉकडाउन के बीच लगभग 5 करोड़ किसानों के खाते में 2-2 हजार रुपए भेजे जा चुके हैं. इस वक्त किसानों और गरीबों को समस्या न हो, इसलिए सरकार ने एक बड़ा आर्थिक पैकेज का ऐलान किया है. इसके तहत लॉकडाउन के दौरान डायरेक्ट बेनिफट ट्रांसफर (DBT) द्नारा लगभग 9826 करोड़ की राशि भेजी जाएगी.

English Summary: modi government helped 62 thousand crore rupees through pm kisan yojana

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News