1. ख़बरें

प्याज के बीज एक्सपोर्ट पर केंद्र सरकार ने तत्काल रोक लगाई, ये है वजह

श्याम दांगी
श्याम दांगी
Modi ji

देश में बढ़ते प्याज के दाम को देखते हुए केंद्र सरकार ने प्याज के बाद अब प्याज के बीज के एक्सपोर्ट पर भी रोक लगा दी है. सरकार ने यह रोक देश में प्याज की प्याज की उपलब्धता को बनाए रखने के लिए लगाई है. इसकी जानकारी विदेश व्यापर निदेशालय ने दी है. अपनी एक अधिसूचना में निदेशालय ने बताया कि प्याज के बीज के एक्सपोर्ट को निषिद्ध श्रेणी डाल दिया गया है. पहले यह प्रतिबंधित श्रेणी में था. इससे पहले देश में बढ़ते प्याज के दाम के कारण सरकार ने बांग्लादेश समेत विभिन्न देशों में प्याज के निर्यात पर रोक लगा दी थी. 

लेनी होगी सरकार की अनुमति

सरकार द्वारा प्याज के बीज पर रोक के बाद अब सरकार अन्य देशों में प्याज निर्यात नहीं किया जा सकेगा. वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के अंतर्गत आने वाले विदेश व्यापार निदेशालय का कहना है कि इससे पहले प्याज के सीड्स का निर्यात प्रतिबंधित श्रेणी में था. जिसके चलते प्याज के बीज के निर्यात के पहले व्यापारियों को सरकार की अनुमति से या सरकार से लाइसेंस लेना पड़ता था. हालांकि अब प्याज के बीज के एक्सपोर्ट पर तत्काल रोक लगा दी गई है.

बढ़ते प्याज के दाम

गौरतलब है कि देश में पिछले कुछ महीनों से प्याज के दाम लगातार बढ़ रहे हैं. ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि देश के प्रमुख प्याज उत्पादक राज्यों में खासतौर से दक्षिणी प्रांतों में भारी बारिश के कारण किसानों की जमा की गई प्याज ख़राब हो गई. इधर, केंद्र सरकार ने प्याज के निर्यात पर रोक लगा दी वहीं दूसरी तरफ आयात के नियमों में भी ढील दी गई है. इस वजह अफगानिस्तान समेत अन्य देशों से प्याज भारत पहुँच रहा है. गौरतलब है कि बढ़ते प्याज की कीमतों पर नियंत्रण के लिए सरकार ने थोक विक्रेताओं और खुदरा विक्रेताओं के लिए प्याज भंडारण की सीमा तय कर दी है. नियमों के अनुसार थोक विक्रेता 25 टन तथा खुदरा विक्रेता दो टन से अधिक प्याज खरीदकर नहीं रख सकता है. इस समय प्याज थोक भाव में 40 से 50 रुपये किलो वहीं खेरची में 60 से 80 रुपये प्रति किलो बिक रहा है.

English Summary: modi government bans export of onion seeds amidst rising prices

Like this article?

Hey! I am श्याम दांगी. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News