1. ख़बरें

3 मिलियन ट्रैक्टर तैयार करने वाला पहला भारतीय ब्रांड बना महिंद्रा

मनीशा शर्मा
मनीशा शर्मा

महिंद्रा ऐंड महिंद्रा लिमिटेड, जो कि 20.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाले महिंद्रा ग्रुप का घटक है,उसने आज घोषणा की है कि, वह 3 मिलियन ट्रैक्टर्स बनाने वाला पहला भारतीय ट्रैक्टर ब्रांड बन गया है. वर्तमान में  महिंद्रा ‘वॉल्यूम’ की दृष्टि से दुनिया का सबसे पहला फार्म ट्रैक्टर निर्माता है और यह तीन दशकों से भारत का प्रमुख ट्रैक्टर निर्माता बना हुआ है. कंपनी ने मार्च 2019 के दौरान यह उपलब्धि हासिल की. इस उपलब्धि ने भारतीय बाजार में महिंद्रा की अग्रणी स्थिति को और अधिक मजबूत कर दी है. यह ऐसा पहला भारतीय ट्रैक्टर निर्माता भी है जिसने वर्ष 2018-19 में 2,00,000 ट्रैक्टर्स तैयार किये थे, जो कि एक वित्त वर्ष में किसी भारतीय ट्रैक्टर ब्रांड द्वारा किया गया अधिकतम निर्माण है.

इंटरनेशनल हार्वेस्टर इंक. के साथ संयुक्त उद्यम के जरिए वर्ष 1963 में अपना पहला ट्रैक्टर बनाने वाले, महिंद्रा ऐंड महिंद्रा वर्ष 2004 में 1 मिलियन ट्रैक्टर बना चुका था. फिर, वर्ष 2009 में यह कंपनी 'वाॅल्युम' की दृष्टि से दुनिया की सबसे अधिक बिक्री वाला फार्म ट्रैक्टर ब्रांड बन गई. फिर 9 साल बाद वर्ष 2013 में, महिंद्रा फार्म डिविजन ने 2 मिलियन इकाइयों का निर्माण पूरा कर लिया और उसके महज 6 वर्ष बाद ही, इसने वर्ष 2018-19 में अगला 1 मिलियन ट्रैक्टर्स का निर्माण हासिल कर लिया, जिसमें निर्यात की गई इकाइयां भी शामिल हैं और यह इस ब्रांड के प्रति लाखों किसानों के विश्वास को दर्शाता है. 3-मिलियन उत्पादन की उपलब्धि का जश्न मनाने के लिए, महिंद्रा एंड महिंद्रा भारत में ग्राहकों के लिए “आपका आभार, 30 लाख बार“ शीर्षक से 360 डिग्री अभियान चलाएगा. अभियान के माध्यम से, महिंद्रा, महिंद्रा ब्रांडेड उत्पादों के नए और मौजूदा ग्राहकों के लिए विशेष उपभोक्ता ऑफ़र, सेवा लाभ और वित्त ऑफ़र का विस्तार करेगा.

इस उपलब्धि के बारे में, राजेश जेजुरिकर, प्रेसिडेंट - फार्म इक्विपमेंट सेक्टर, महिंद्रा एंड महिंद्रा लिमिटेड ने कहा, “भारत में ट्रैक्टर उद्योग पिछले सात दशकों में महिंद्रा ब्रांड का पर्याय बन गया है और 3 मिलियन ट्रेक्टर के निर्माण की यह उपलब्धि इसका प्रमाण है. हम इन वर्षों में अपने विश्वास को दोहराने के लिए अपने ग्राहकों के लिए बहुत आभारी हैं. आगे बढ़ते हुए, हम किसानों के जीवन को बदलने के लिए अग्रणी, सुलभ और क्रांतिकारी कृषि प्रौद्योगिकियों, नवाचार और डिजिटलीकरण के माध्यम से फार्म टेक समृद्धि को चलाना जारी रखेंगे और कृषि उत्पादों की बढ़ती मांग को पूरा करने में मदद करेंगे.

70 से अधिक वर्षों के लिए महिंद्रा एंड महिंद्रा ने ट्रैक्टर विकसित किए हैं जो घरेलू बाजार और साथ ही 6 महाद्वीपों में 40 से अधिक देशों में उपयोग में लाये जाते हैं. भारत के बाहर इसका सबसे बड़ा बाजार यू.एस. है. आज दुनिया भर में महिंद्रा की 14 ट्रैक्टर निर्माण एवं एसेम्बली इकाइयां हैं. महिंद्रा की सफलता के मूल में ग्राहक केंद्रितता और उच्च गुणवत्ता, किफायती उत्पाद हैं, जो डिजाइन चरण से शुरू होकर, नए उत्पादों के व्यापक परीक्षण के लिए ग्राहकों को उलझाने, बिक्री के समर्थन के बाद तक सही हैं. आज महिंद्रा के पास एक सबसे व्यापक ट्रैक्टर पोर्टफोलियो है, जिसमें महिंद्रा की अगली पीढ़ी के ट्रैक्टर प्लेटफॉर्म - महिंद्रा जीवो, महिंद्रा युवो और महिंद्रा नोवो शामिल हैं. उत्पादों की पूरी श्रृंखला किसानों की विविध आवश्यकताओं को पूरा करने में मदद करती है - भूमि की तैयारी से लेकर कटाई के बाद की आवश्यकताओं तक.

महिन्द्रा के बारें में

महिन्द्रा समूह 20.7 बिलियन अमेरिकी डॉलर वाला कंपनियों का संघ है, जो नये-नये मोबिलिटी समाधानों के जरिए और ग्रामीण समृद्धि, शहरी रहन-सहन को बढ़ाते हुए, नये व्यवसायों को प्रोत्साहन देकर और समुदायों की सहायता के जरिए लोगों को राइज अर्थात़ उत्थान करने में सक्षम बनाता है. इसका ट्रैक्टर, उपयोगिता वाहन, सूचना प्रौद्योगिकी और वैकेशन ओनरशिप में अग्रणी स्थान है और यह ‘वॉल्यूम’ की दृष्टि से दुनिया की सबसे बड़ी ट्रैक्टर कंपनी है. कृषि-व्यवसाय, एयरोस्पेस, कल-पुर्जे, परामर्श सेवाओं, प्रतिरक्षा, ऊर्जा, औद्योगिक सेवाओं, लॉजिस्टिक्स, जमीन-जायदाद, खुदरा, इस्पात और दोपहिये उद्योगों में महिन्द्रा की महत्वपूर्ण मौजूदगी है. इसका मुख्यालय भारत में है. 100 से अधिक देशों में, महिन्द्रा के 2,40,000 से अधिक कर्मचारी कार्यरत हैं.

www.mahindra.com / ट्विटर और फेसबुकर: @MahindraRise  पर महिंद्रा के बारे में अधिक जानें

मीडिया संपर्क जानकारी:

मोहन नायर

वाइस प्रेसिडेंट (कम्यूनिकेशंस)

महिंद्रा ऐंड महिंद्रा लिमिटेड

ऑफिस डाइरेक्ट लाइन - 91 22 28468510

ऑफिस ईमेल पता - nair.mohan@mahindra.com

English Summary: Mahindra become first Indian brand to create 3 million tractors

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News