News

कावेरी सीड्स ने खोले बायोटेक रिसर्च एंड डेवलपमेंट सेंटर

बीएसई-सूचीबद्ध बीज उत्पादक कावेरी सीड्स ने अपने बायोटेक्नोलॉजी अनुसंधान और विकास (आरएंडडी) केंद्र का उद्घाटन सिद्दीपेट जिले, तेलंगाना के पामुलपार्थी में किया है.  कावेरी सीड्स के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी, जी.वी. भास्कर राव के अनुसार, एप्लाइड जीनोमिक्स एंड सीड टेक्नोलॉजी सेंटर सभी फसलों के लिए गुणवत्ता वाले संकर विकसित करने के लिए 'स्मार्ट ब्रीडिंग' की सुविधा प्रदान करेगा. कावेरी के बीजों में 1 लाख बीज उत्पादक किसानों का नेटवर्क है, जो 12 पूर्व-जलवायु क्षेत्रों में 65,000 उत्पादकों की संख्या को कवर करता है. कंपनी विभिन्न फसलों में लगभग 50,000 टन बीज का उत्पादन करती है. इसमें से कपास का योगदान लगभग 4,500 टन है. फर्म ने  30 जून, 2019 से पहले पहली तिमाही में 660 करोड़ रुपये की आय दर्ज की है.जिसमें पिछले साल (2018) की समान तिमाही 599 करोड़ रुपये थी.

कावेरी सीड्स के बारे में

कावेरी गाथा को 1976 में जी.वी. भास्कर राव ने अपनी पत्नी जी वनजा देवी के साथ शुरू की थी जोकि विज्ञान में स्नातक की थी और सह-संस्थापक के रूप में आंध्र प्रदेश के गतला नरसिंहपुर गाँव में एक छोटे बीज उत्पादन सुविधा की स्थापना की थी. इस उद्यमशीलता की यात्रा को जारी रखते हुए, इस विचार को कावेरी सीड्स के रूप में अंकुरित किया गया और कंपनी को औपचारिक रूप से 1986 में शुरू किया गया.

वर्तमान में कावेरी देश में सबसे तेजी से बढ़ती बीज कंपनी है जिसमें 15,000 से अधिक वितरकों और देशभर के डीलरों का एक विशाल नेटवर्क है. जो 883 से अधिक कर्मचारियों और संकर क़िस्मों की बीज की एक मजबूत उत्पाद शृंखला के साथ, कृषि के सभी मांगों को पूरा करने के लिए प्रबंधन द्वारा नवीनता और निवेश करने के मजबूत इरादे के साथ अधिक से अधिक ऊंचाइयों पर जाने के लिए तैयार है.



English Summary: Kaveri Seeds opens Biotech Research and Development Center

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in