1. ख़बरें

Jan Dhan Yojana: 40 करोड़ के पार हुई जन धन खातों की संख्या, 1.30 लाख करोड़ रुपए हुआ डिपॉजिट

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Jan dhan yojana

प्रधानमंत्री जन धन योजना (Pradhan Mantri Jan Dhan Yojana) एक महत्वाकांक्षी स्कीम है, जिसके तहत खुलने वाले खातों की संख्या लगभग 40 करोड़ के पार हो गई है. इसमें कुल जमा राशि का आंकड़ा लगभग 1.30 लाख करोड़ रुपए हो गया है. आज के समय में जन धन योजना का खाता 50 प्रतिशत से अधिक महिलाओं के पास है. इस बात की जानकारी सरकार की तरफ से एक विभाग द्वारा एक ट्वीट करके दी गई है.

6 साल पहले शुरू हुई थी पीएम जन धन योजना

मोदी सरकार ने अपने पहले कार्यकाल में इस योजना की शुरुआत की थी. यानी इस योजना को शुरू हुए लगभग 6 साल हो गए हैं. यह एक वित्तीय साक्षरता की योजना है. इसमें जीरो बैलेंस पर खाता खुलवाने की सुविधा दी गई है. इसके तहत देश के गरीबों का खाता जीरो बैलेंस पर बैंक, पोस्ट ऑफिस और राष्ट्रीयकृत बैंको में खोला जाता है. इतना ही नहीं, जो खाते आधार कार्ड से लिंक होते हैं, उन्हें 6 महीने बाद ओवरड्राफ्ट सुविधा प्रदान की जाती है. इसके साथ ही 2 लाख रुपए का दुर्घटना बीमा कवर, लाइफ कवर के साथ दिया जाता है.

ये खबर भी पढ़े: Ration Card: राशन कार्ड से जुड़े हर सवाल के जवाब के लिए हैं ये 2 सरकारी पोर्टल, जानें इनकी खासियत

Yojana

ताजे आंकड़ों के मुताबिक...

इसमें कुल 40.5 करोड़ खाते 6 सालों में खोले गए हैं. इसके साथ ही 1.30 लाख करोड़ राशि डिपॉजिट रही है. वित्तीय सेवा विभाग के ट्वीट में बताया गया है कि यह विश्व में फाइनेंशियल इंक्लूजन पहल का एक रिकॉर्ड है. ऐसा तब हो पाया है, जब जल्द ही सरकार इस योजना की छठीं एनिवर्सरी मनाने वाली है.

पीएम जन धन योजना की छठी वर्षगाठ

इस योजना को 28 अगस्त 2014 को लांच किया गया था. इसका मुख्य उद्देश्य है कि देश के अंतिम छोर तक बैंकिंग सुविधाओं को पहुंचा जा सके. इसके तहत बेसिक सेविंग बैंक डिपॉजिट खाते खोले जाते हैं, जिसमें डेबिट कार्ड की सुविधा भी दी जाती है. इसके साथ ही ओवरड्राफ्ट भी मिलता है. इसमें कम से कम बैलेंस का नियम भी नहीं है.

ये खबर भी पढ़े: राशन कार्ड धारकों को जल्द मिलेगा एक साथ 3 महीने का मुफ्त राशन, इस श्रेणी के लोग उठाएं लाभ

English Summary: Jan Dhan accounts Number has crossed 40 crore, 1.30 lakh crore rupees has been deposited

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News