आपके फसलों की समस्याओं का समाधान करे
  1. ख़बरें

जनता की पहुंच से दूर हुआ प्याज, निकला आंसू

किशन
किशन

राजधानी दिल्ली समेत कई शहरों में एक बार फिर से प्याज की कीमतें आसमान पर पहुंच गई है. प्याज की आवक कम होने के चलते इसके दाम 80 रूपये प्रति किलो तक पहुंच गए है. देश में प्याज की बढ़ती कीमतों को काबू करने के लिए केंद्र सरकार काफी मुस्तैद दिखाई दे रही है. इस मामले पर केंद्रीय उपभोक्ता मंत्रालय का कहना है कि सरकार जल्द ही अन्य देशों के सहारे प्याज के आयात को बढ़ावा देगी ताकि इसकी कीमतों को काबू में लाया जा सकें.इस बारे में अंतर मंत्रालय समिति की बैठक में अहम फैसला लिया गया है. इस समिति ने प्याज की उपलब्धता और कीमतों की फिर से समीक्षा की मांग की है.उपभोक्ता मंत्रालय का कहना है कि सरकार अन्य देशों से प्याज के आयात को बढ़ावा देगी.

इन देशों से आएगा प्याज

प्याज की कीमत को कम करने और उसकी आवक बनाए रखने के लिए अफगानिस्तान, मिस्त्र, तुर्की, और ईरान स्थित मिशनों को प्याज की आपूर्ति करने को कहा गया है. यह उम्मीद की जा रही है जल्द ही करीब 100 कंटेनर प्याज जल्द ही देश में पहुंचेगी. सरकार महाराष्ट्र और अन्य दक्षिणी  राज्यों से उत्तर भारत में प्याज आपूर्ति का प्रयास किया जा रहा है.

और बढ़ेगी प्याज की कीमतें

बता दें कि देश में कई स्थानों में बेमौसम बारिश और आवक के कम होने के कारण एक बार फिर से प्याजके दाम आसमान छूने लगे है. कुछ दिन पहले ही यह प्याज 50 रूपये किलो तक बिक रहा था. साथ ही वहां पर यह 80 रूपये किलो तक बिक रहा था. सोमवार के दिन प्याज की कीमत 70 रूपये किलो पर था. आने वाले दिनों में इसकी कीमतों में और ज्यादा बढ़ोतरी होने की संभावना है.

इसीलिए बढ़ रही है प्याज की कीमतें

अगर किसानों की माने तो इस वक्त बाजार प्याज की कमी से जूझ रहा है, आने वाले 10 से 15 दिनों तक किसी भी तरह से कोई राहत मिलने की उम्मीद नहीं है, कई दिनों से किसान भी परेशान है और वह विरोध-प्रदर्शन कर रहे है. इस कारण प्याज की आपूर्ति में काफी दिक्कतें आ रही है. प्याज थोक मंडी में रिटेल बाजार में जाती है तो इसके दाम 60 से 70 रूपये प्रति किलो तक हो गए.

English Summary: Inflation hit again, onion prices crossed the sky

Like this article?

Hey! I am किशन. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News