1. ख़बरें

हरियाणा सरकार और इंग्लैंड के बीच होगा समझौता, इस तरह फल-सब्जियों के नुकसान पर लगेगी रोक

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

हरियाणा सरकार किसानों के लिए एक अच्छी योजना लाने वाली है. दरअसल अब राज्य सरकार फल और सब्जियों की फसलों को नुकसान से बचाएगी. इसके लिए सरकार जल्द ही पोस्ट हार्वेस्टिंग सेंटर ऑफ एक्सीलेंस (Post harvesting center of excellence) स्थापित किए जाएंगे. यह सेंटर किसानों के लिए बहुत फायदेमंद होने वाले हैं, क्योंकि इन सेंटरों के द्वारा फल और सब्जियों में हो रहे नुकसान को रोका जाएगा.

हरियाणा सरकार ने बनाई परियोजना

दरअसल, हरियाणा सरकार ने ऐसी परियोजना बनाई है, जिसमें सरकार और इंग्लैंड के बीच एक साझा समझौता होगा. इस परियोजना में इंग्लैंड सहयोग करेगा. इंग्लैंड की तकनीकी पर आधारित पोस्ट हार्वेस्टिंग सेंटर ऑफ एक्सीलेंस बनाए जाएंगे. इसके लिए इंग्लैंड के 10 सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल बनाए गए हैं . इस परियोजना के लिए प्रतिनिधिमंडल ने पिहोवा के गांव तलहेड़ी में पैक हाउस और मशरुम फार्म का अवलोकन किया है.  

 

किसानों की आय में होगा इजाफा

पोस्ट हार्वेस्टिंग सेंटर ऑफ एक्सीलेंस में फलों और सब्जियों को आधुनिक मशीनों से धोया जाएगा. इसके साथ ही फस-सब्जियों को छांटने, ग्रेडिंग, पैकिंग और कोल्ड स्टोर की भी व्यवस्था होगी. इनको सीधा कंपनियों के पास भेजने की व्यवस्था भी है. मीडिया रिपोर्ट्स की मानें, तो इंग्लैंड के अधिकारी का कहना है कि हरियाणा में फल और सब्जी की अच्छी फसल का उत्पादन किया जा रहा है, लेकिन फिर भी किसानों को कई कठिनाइयों को सामना करना पड़ रहा है. इस तकनीक से उनकी कठिनाई को दूर किया जाएगा. इस तरह किसानों की आय में इजाफा होगा.

बागवानी विभाग के मुताबिक, इस वक्त किसानों को फल-सब्जियों को खेत से मंडी तक ले जाने में करीब 30 प्रतिशत का नुकसान हो रहा है, लेकिन अब यह प्रतिनिधीमंडल अध्यन करेगा कि किसानों की फसलों की अच्छी तरह से पैकिंग, मार्केटिंग, शोर्टिंग, ग्रेडिंग हो.

ये खबर भी पढ़ें:किसान नीम से बनाएं जैविक कीटनाशक, मिलेगी बेहतर उपज

English Summary: haryana government will stop loss of fruits and vegetables

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News