1. ख़बरें

खुशखबरी: 21 लाख किसानों को भेजा जाएगा SMS, जिसके आधार पर ही होगी उपज की सरकारी खरीद

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य

भारत सरकार ने कोरोना संकट को रोकने के लिए लॉकडाउन की अवधि बढ़ा दी है, लेकिन कृषि कार्यों को जारी रखने की छूट मिल गई है. इस दौरान कई राज्यों ने न्यूनतम समर्थन मूल्य पर साल 2019–20 की रबी फसलों की खरीदी शुरू कर दी है. इसमें मध्यप्रदेश, उत्तरप्रदेश, हरियाणा, पंजाब समेत कई अन्य राज्य शामिल हैं. इसी कड़ी में खरीदी केंद्रों पर भीड़ कम हो, इसके लिए मध्य प्रदेश सरकार ने सख्त व्यवस्था की है. इसके अलावा किसानों को एक खास सुविधा दी है, ताकि किसान अपनी उपज को आसानी से केंद्र पर बेच पाएं. दरअसल, सरकार किसानों को एसएमस के जरिए सूचनी देगी कि फसल की खरीद कब और कहां होनी है.

इतने जिलों में खरीदी हुई शुरू

राज्य के लगभग 48 जिलों में गेहूं कि खरीदी शुरू हो चुकी है. बता दें कि भोपाल, इंदौर और उज्जैन में खरीदी शुरू नहीं हुई है, क्योंकि ये जिले कोरोना वायरस से सबसे अधिक प्रभावित हैं. सरकार इन जिलों के लिए किसानों के लिए आगे की तारीख़ का ऐलान करेगी. खास बात है कि इस बार कोरोना वायरस की वजह से खरीदी केंद्रों की संख्या बढ़ा दी गई है. राज्य के 48 जिलों में कुल 4 हजार 305 केंद्र पर न्यूनतम समर्थन मूल्य पर गेहूं की खरीदी होगी. इस बार गेहूं की खरीदी 1,925 रुपए प्रति क्विंटल की दर से होगी.

किसानों को एसएमएस के जरिए मिलेगी सूचना

राज्य के 21 लाख किसानों को एसएमएस द्वारा सूचित किया जाएगा कि वह केंद्र पर अपनी उपज किस तारीख़ में बेच सकते हैं. अगर किसी किसान को एसएमएस नहीं मिलता है, तो उन्हें खरीदी केंद्र पर आने नहीं दिया जाएगा. बता दें कि किसानों को यह एसएमएस उपज खरीदी से 3 दिन पहले भेजा जाएगा.

किसान किस समय बेच पाएंगे फसल

राज्य में गेहूं खरीदी के लिए 48 जिलों को 2 पाली में बांट दिया गया है. पहली  पाली से सुबह 10 बजे से दोपहर 1:30 बजे तक खरीद की जाएगी. दूसरी पाली में दोपहर 2 बजे से शाम 5 बजे तक खरीद जारी रहेगी. बता दें कि हर एक पाली में 3-3 किसानों की उपज को तौला जाएगा. अगर कोई किसान किसी वजह से समय पर नहीं आ पाया है, तो उन्हें एक और मौका दिया जाएगा.

इन लोगों को खरीदी केंद्र पर जाना मना है

खरीदी केंद्रों पर केवल स्वस्थ किसानों को जाने की अनुमति दी गई है. सरकार का सख्त निर्देश है कि खरीदी केंद्र पर कोई भी वृद्धजन या बच्चा न जाए. अगर वृद्ध किसान चाहे, तो अपनी जगह किसी दूसरे नामित व्यक्ति को भेज सकता है.

हेल्पलाइन नंबर पर कर सकते हैं संपर्क 

अगर किसान को फसल खरीदी के समय किसी भी प्रकार की शिकायत या समस्या है, तो वह सीएम हेल्पलाइन नंबर 181 पर संपर्क कर सकता है. सभी खरीदी केंद्रों पर आने वाले किसान और कर्मचारियों को मास्क जरूर लगाना है. इसके साथ ही सैनेटाइज़र और साबुन की व्यवस्था की गई है. खरीदी केंद्रों पर सभी नियमों का पालन हो, इसके लिए खास पुलिस की व्यवस्था की गई है.

ये खबर भी पढ़ें: जानिए DBT क्या होता है और इसके अंतर्गत किन–किन सरकारी योजनाओं का लाभ मिलता है

English Summary: Government of Madhya Pradesh will inform farmers about wheat purchase through SMS

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News