1. ख़बरें

खुशखबरी: बाजार में बढ़ी हरी सब्जियों की डिमांड, प्रवासी श्रमिकों को मिल रहा बेहतर रोजगार

कंचन मौर्य
कंचन मौर्य
Vegetable

कोरोना महामारी के संकम्रण से बचाने के लिए लोग शरीर की प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने का पूरा प्रयास कर रहे हैं, साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनना, लगातार हाथ धोने जैसे जतन कर रहे हैं. डॉक्टर भी सलाह दे रहे हैं कि इस वक्त सभी लोगों को ताजी हरी सब्जियों और मौसमी फल खाने चाहिए, ताकि उनकी सेहत कमजोर न पड़ पाए. यही कारण है कि अब हरी सब्जियों की मांग लगातार बढ़ती जा रही है. ऐसा होने लॉकडाउन में गैर राज्यों से पलायन कर लौटे प्रवासी श्रमिकों के लिए बहुत लाभ पहुंचा रहा है, क्य़ोंकि इस मांग से उनके लिए घर में ही रोजगार के अवसर मिल रहे हैं. 

इस बीच उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ से खबर सामने आई है कि यहां महिलाएं भी हरी सब्जियां बेचकर काफी अच्छा मुनाफ़ा कमा रही हैं. महिलाओं का कहना है कि उनके परिवार के लोग लॉकडाउन से पहले नोएडा, दिल्ली और गुड़गांव में नौकरी किया करते थे. इससे उनके परिवार का गुजर बसर होता था. मगर कोरोना ककी वजह से लगे लॉकडाउन में उन सभी का रोजगार छिन गया है, जिस कारण वह सभी लोग गांव वापस लौट आए हैं. इसके बाद परिवार को चलाने के लिए महिलाएं और उनके परिवार ने खेतीबाड़ी करना शुरू कर दिया.

ये खबर भी पढ़ें: डिस्क हैरो से बनाएं खेत को समतल, महज़ इतने हजार रुपए में घर लाएं मशीन

Vegetable

इस वक्त तोरई, लौकी, भिंडी, हरी मिर्च समेत कई अन्य सब्जियों की खेती कर रहे हैं. बता दें कि अभी कोरोना के चलते इम्युनिटी को बढ़ाने के लिए हरी सब्जियों की मांग बहुत बढ़ गई है. इसके जरिए दर्जन भर से ज्यादा महिलाओं को काम मिल पा रहा है. इससे हर रोज महिलाएं करीब 200 रूपए कमा ही लेती हैं. खास बात है कि जहां शहरों से अभी तक सोशल डिस्टेंसिंग के उल्लंघन की तस्वीर सामने आ रही हैं, तो वहीं ये महिलाएं खेत में बकायदा सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करके अपनी जीविका चला रही हैं. इस तरह मजदूर कोरोना को भी मात देते हुए नजर आ रहे हैं.

ये खबर भी पढ़ें: खुशखबरी: किसान 50 प्रतिशत सब्सिडी के साथ करें फलदार वृक्षों की खेती, जल्द करें आवेदन

English Summary: good news, Due to increasing demand for green vegetables in the market, migrant laborers are getting employment

Like this article?

Hey! I am कंचन मौर्य. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News