News

खाद्य सुरक्षा जरुरी : डॉ.शशिकला पुष्पा

हर रोज हजारों की तादाद में खाने की कमी और कुपोषण के शिकार लोग मरते है| भारत जो कि एक बड़ी जनसँख्या वाला देश है| ऐसी स्थिति सबका पेट भरना मुश्किल है| इसी समस्या पर एसोचैम ने संज्ञान लेते हुए एक कार्यक्रम का आयोजन किया| इस कार्यक्रम में खाद्य सुरक्षा, पौष्टिकता, कृषि, खाद्य प्रसंस्करण और सप्लाई चैन पर परिचर्चा की गयी| कार्यक्रम का शुभारम्भ एसोचैम के चेयरमैन पी.के. जैन ने किया| इस दौरान ग्लोबल अलायन्स फॉर इम्प्रूवड न्यूट्रीशन की चेयर विनीता बाली ने आये प्रतिभागियों को संबोधित करते हुए कहा कि देशभर हर हजारों लोग भूखे सोते है और न जाने कितने लोग भूखे मरते है| उन्होंने कहा लगभग 30 से 35 प्रतिशत खाना खराब जाता है| इसके लिए सरकार को उचित कदम उठाने की जरुरत है| ताकि सभी को गुणवत्ता वाला खाना मिल सके| इसके लिए एफएसएसएआई भी उचित कदम उठा रही है| इसी क्रम में मुख्य अतिथि डॉ. शशिकला, सदस्य राज्यसभा ने इस खाद्य सुरक्षा, पौष्टिकता और खाद्य पदार्थों की बर्बादी पर चर्चा की | अपने विचार व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि सरकार को इसके लिए उचित कदम उठाने की आवश्यकता है| उन्होंने कहा कि खाद्य सुरक्षा इस तरह की समस्याओं से निपटने के लिए बहुत जरुरी है|

इसके बाद इस क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाली कंपनियों को पुरस्कृत किया गया| यह पुरुस्कार 5 श्रेणियों में दिया गया| इसमें बेहतर इनोवेशन के लिए अबोट इंडिया, न्यूट्रीशन कंपनी ऑफ़ द इयर के लिए हेक्सागोन न्यूट्रीशन को पुरुस्कृत किया गया| इसके अलावा करियर कोल्ड चैन प्राइवेट लिमिटेड, सोहन लाल कमोडिटी और भी कई कंपनियों को सम्मानित किया गया|



English Summary: Food safety is essential: Dr. Shishikala Pushpa

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in