MFOI 2024 Road Show
  1. Home
  2. ख़बरें

सीआरपीएफ जवान इस राज्य में दे रहें हैं वैज्ञानिक कृषि प्रशिक्षण

पश्चिम सिंहभूम (झारखंड) के सारंडा जंगलों में माओवादी गतिविधियों पर रोक लगाने के बाद केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान आसपास के गांवों को विकसित करने पर ध्यान दे रहे हैं. ग्रामीणों के साथ सुरक्षा बल कृषि उत्पादकता में सुधार करने की कोशिश कर रहे हैं.

मनीशा शर्मा

पश्चिम सिंहभूम (झारखंड) के सारंडा जंगलों में माओवादी गतिविधियों पर रोक लगाने के बाद केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के जवान आसपास के गांवों को विकसित करने पर ध्यान दे रहे हैं. ग्रामीणों के साथ सुरक्षा बल कृषि उत्पादकता में सुधार करने की कोशिश कर रहे हैं. पिछले साल नवंबर में, सीआरपीएफ ने सारंडा के दो गांवों में बिजली की आपूर्ति की थी. इस महीने, सीआरपीएफ बल के 197 बटालियन शिविरों ने, जिला कृषि विभाग के साथ मिलकर सुदूर गाँवों में किसानों को कृषि उत्पादकता बढ़ाने के लिए उन्नत वैज्ञानिक प्रशिक्षण प्रदान करना शुरू किया है.

ये भी पढ़ें - हल्दी की वैज्ञानिक खेती

सीआरपीएफ 197 बटालियन के कमांडेंट परमा शिवम ने कहा कि वे कोशिश कर रहे थे कि किसानों को कृषि क्षेत्र में उपलब्ध सरकारी योजनाओं का लाभ मिले. उन्होंने कहा कि बटालियन यह सुनिश्चित करेगी कि अधिक से अधिक किसानों को उन्नत उत्पादन के लिए वैज्ञानिक कृषि प्रशिक्षण मिले.

उन्होंने कहा, उत्पादकों ने वैज्ञानिक परीक्षण के लिए मिट्टी के नमूने दिए थे. कृषि वैज्ञानिकों ने फिर उनके सुझावों के साथ जवाब दिया कि किस फसल की खेती की जानी चाहिए और उत्पादकता में वृद्धि के लिए सबसे अच्छा कीटनाशक कौनसा होना चाहिए.

सीआरपीएफ के जवानों ने किसानों को प्रशिक्षित करने के लिए एक सप्ताह का कैप्सूल कोर्स (7-13 जनवरी) आयोजित किया. कुल मिलाकर, छोटानागरा, थालकोबद, करमपाड़ा, नूरा, रोआम और अन्य गांवों के 14 किसानों को मिट्टी की स्थिति के विश्लेषण, विशेष घास के मैदान में कीटनाशकों के आवेदन, कई फसलें लगाने, सीमित जल उपयोग और अन्य कृषि तकनीकों के साथ अधिक उपज प्राप्त करने के लिए प्रशिक्षित किया गया.

ये भी पढ़ें - लहसुन की वैज्ञानिक खेती

आशीष कुमार, डिप्टी कमांडेंट ने कहा कि सुरक्षाकर्मियों ने नक्सलियों के खिलाफ लड़ाई में ग्रामीणों की मदद करके सारंडा में शांति प्रदान की है और अब इस क्षेत्र को विकसित करने का समय आ गया है.

सीआरपीएफ का लक्ष्य दूर-दूर के क्षेत्रों में किसानों को अधिक सब्जियों की खेती करने और बटालियन के 100 जवानों के लिए उपज खरीदने में मदद करना है, जो सारंडा में विभिन्न शिविरों में तैनात हैं.यह हमारे किसानों की मदद के लिए लगाए गए है ताकि कृषि क्षेत्र को और आगे तक बढ़ाया जाए.

English Summary: Farmers Getting Training from CRPF in West Singhbhum Published on: 16 January 2019, 03:34 PM IST

Like this article?

Hey! I am मनीशा शर्मा. Did you liked this article and have suggestions to improve this article? Mail me your suggestions and feedback.

Share your comments

हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें. कृषि से संबंधित देशभर की सभी लेटेस्ट ख़बरें मेल पर पढ़ने के लिए हमारे न्यूज़लेटर की सदस्यता लें.

Subscribe Newsletters

Latest feeds

More News