News

Facebook पर खीरा बेचने की अनोखी तरकीब, रोजाना बिक रही 15 क्विंटल फसल

देश में काफी लंबे समय से कोरोना वायरस की वजह से लॉकडाउन चल रहा है. ऐसे में छत्तीसगढ़ के अंबिकापुर जिले से एक अनोखी खबर सामने आई है. सभी जानते हैं कि इस समय किसानों को लॉकडाउन और मौसम की वजह से काफी उतार-चढ़ाव का सामना करना पड़ रहा है. इस स्थिति में सबसे ज्यादा सब्जी उत्पादक किसानों को परेशानी हो रही है. बता दें कि इस साल सब्जी का उत्पादन बड़े स्तर पर हुआ है, लेकिन किसानों को उसके खरीदार नहीं मिल पा रहे हैं. ऐसे में गणेशपुर गांव के युवा किसान संजय दास ने फसल को बेचने की एक अनोखी तरकीब निकाल डाली है.

किसान की अनोखी तरकीब

दरअसल, किसान ने अपने फेसबुक अकाउंट पर खीरे की तस्वीर पोस्ट की है. इसके साथ जानकारी डाली है कि उनके पास 5 रुपए प्रति किलो की दर से 4 टन खीरा रोजाना उपलब्ध होता है. ऐसे में अगर किसी व्यक्ति को खीरे की आवश्यकता है, तो वह उनके नंबर पर संपर्क कर सकता हैं. इसके साथ ही किसान ने पोस्ट में अपना मोबाइल नंबर भी लिखा है.

पोस्ट देखकर फसल खरीदने पहुंचे लोग

किसान के फेसबुक में पोस्ट डालने के अगले दिन ही कई लोग खीरा खरीदने के लिए पहुंचने लगे. इतना ही नहीं, कई लोगों ऑनलाइन ही खीरे की फसल खरीद ली और उनके खाते में पैसे भेज दिए. इस तरह किसान रोजाना लगभग 15 क्विंटल खीरा बेच रहा है, लेकिन अब भी किसान के पास काफी मात्रा में खीरे की फसल बची हुई है. इसको वह मंडी में बहुत अच्छे भाव पर बेच रहे हैं.

4 एकड़ में की खीरे की हाईटेक खेती

आपको बता दें कि किसान ने 4 एकड़ के खेत में खीरे की हाईटेक खेती की है. उसके खेत से रोजाना 4 टन खीरे की तुड़ाई की जाती है. मगर इस समय के हालात ऐसे हैं कि सब्जियों को दूसरे राज्यों में भेजना तो दूर स्थानीय स्तर पर भी खरीदार नहीं मिल पा रहे हैं. इस कारण फसल की बिक्री बहुत ही कम हो पा रही है. बता दें कि किसान ने इस साल लगभग 1 लाख 60 हजार रुपए की लागत से खीरे की खेती की है. मगर फसल के तैयार होते ही देश में लॉकडाउन लग गया. इस कारण बाजार में सब्जी की मांग घट गई.



English Summary: Farmer started selling cucumber crop online

कृषि पत्रकारिता के लिए अपना समर्थन दिखाएं..!!

प्रिय पाठक, हमसे जुड़ने के लिए आपका धन्यवाद। कृषि पत्रकारिता को आगे बढ़ाने के लिए आप जैसे पाठक हमारे लिए एक प्रेरणा हैं। हमें कृषि पत्रकारिता को और सशक्त बनाने और ग्रामीण भारत के हर कोने में किसानों और लोगों तक पहुंचने के लिए आपके समर्थन या सहयोग की आवश्यकता है। हमारे भविष्य के लिए आपका हर सहयोग मूल्यवान है।

आप हमें सहयोग जरूर करें (Contribute Now)

Share your comments


Subscribe to newsletter

Sign up with your email to get updates about the most important stories directly into your inbox

Just in